आइए जलते हैं

आइए जलते हैं

दीपक की तरह।

आइए जलते हैं

अगरबत्ती-धूप की तरह।

आइए जलते हैं

धूप में तपती धरती की तरह।

आइए जलते हैं

सूरज सरीखे तारों की तरह।

आइए जलते हैं

अपने ही अग्नाशय की तरह।

आइए जलते हैं

रोटियों की तरह और चूल्हे की तरह।

आइए जलते हैं

पक रहे धान की तरह।

आइए जलते हैं

ठंडी रातों की लकड़ियों की तरह।

आइए जलते हैं

माचिस की तीली की तरह।

आइए जलते हैं

ईंधन की तरह।

आइए जलते हैं

प्रयोगशाला के बर्नर की तरह।

 

क्यों जलें जंगल की आग की तरह।

जलें ना कभी खेत लहलहाते बन के।

ना जले किसी के आशियाने बन के।

नहीं जलना है ज्यों जलें अरमान किसी के।

ना ही सुलगे दिल… अगर ज़िंदा है।

छोडो भी भई सिगरेट की तरह जलना!

नहीं जलना है

ज्यों जलते टायर-प्लास्टिक।

क्यों बनें जलता कूड़ा?

 

आइए जल के कोयले सा हो जाते हैं

किसी बाती की तरह।

No votes yet.
Please wait...

Dr Chandresh Kumar Chhatlani

नाम: डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी सहायक आचार्य (कंप्यूटर विज्ञान) पता - 3 प 46, प्रभात नगर, सेक्टर - 5, हिरण मगरी, उदयपुर (राजस्थान) - 313002 फोन - 99285 44749 ई-मेल -chandresh.chhatlani@gmail.com यू आर एल - http://chandreshkumar.wikifoundry.com ब्लॉग - http://laghukathaduniya.blogspot.in/ लेखन - लघुकथा, कविता, ग़ज़ल, गीत, कहानियाँ, बालकथा, बोधकथा, लेख, पत्र

Leave a Reply

Close Menu