जीवन का सार

जहां प्यार है
वहां तकरार है
यही तो जीवन का सार है
मौन रहकर हो जाते हैं
बड़े से बड़े मसले हल
भाषा का संवाद बंद कर दे
खामोशियां अपनाने से
दिल से दिल के जुड़ जाते तार हैं
बिगड़ी बात बना ले
चुप रहकर
मुह पे अंगुली रख
सब उलझन सुलझा ले
कांटों को छांटे चला जा
दिल के उपवन से दूर
हटाता चला जा
फूलों सा हवा में
लहलहाता हंस के खिल
यही तुझे भगवान का दिया
एक अनमोल उपहार है
तेरी खुशियों का
एक मस्ती भरा संसार है।

मीनल

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu