बंदा हो गया बिलकुल कूल

देख के तेरी सूरत को //
झड़ गया दिल का फूल //
बंदा हो गया बिलकुल कूल //२

सारी हरकत छूट गयी //
छूट गयी गुटबाजी //
सीधे साधे बात अब करता //
हो जाओ अब राजी //
देख के तेरी मस्त अदाये //
टूटा सारा गुरूर //
बंदा हो गया बिलकुल कूल //←२

अब जब कोई ऑफर आये //
कर देता इंगनोर//
चाहे जितनी सुन्दर कन्या //
य हो जन्नत की हूर ||
तेरी सूरत बसी है दिल में //
तू ही मुझे मंजूर //
बंदा हो गया बिलकुल कूल //←२

शम्भू नाथ कैलाशी

No votes yet.
Please wait...

शम्भनाथ

पिता का नाम स्वर्गीय श्री बाबूलाल गाँव कलापुर रानीगंज कैथौला प्रतापगढ़ उत्तर-प्रदेश जन्म ०७/०८/१९७४ शिक्षा परानास्तक पुस्तकालय विज्ञानं पेसा नौकरी

Leave a Reply

Close Menu