बाल कहानी १ – ची -ची 

बाल कहानी १ – ची -ची

एक था चूहा। नाम था उसका ची -ची। एक दिन वो सुबह की सैर को जा रहा था। उसे एक पेड़ के नीचे कुछ चमकीला सा दिखाई दिया। वो दौड़कर पहुंचा वहां देखा एक सुन्दर लाल कपडा था। जो बहुत चमक रहा था। तभी वो ख़ुशी से उछला और बोला -“अरे वाह कितना सुन्दर कपडा है। इसकी तो मैं टोपी सिलवाऊंगा। शादी में जाऊंगा। सेल्फी लूंगा। गरम -गरम रसगुले खाऊंगा। वाऊ कितना मज़ा आएगा। युम्मी -यम्मी !ऐसा सोचकर उसने लाल कपडे को उठाया और उलट -पुलटकर देखने लगा। टोपी सिलाने के लिए चाहिय एक दरजी। ची -ची चूहा गया दर्जी के पास। पैसे तो थे नहीं उसके पास। दर्जी ने उसकी टोपी सिलने को मना कर दिया- “जाओ पहले पैसे लेकर आओ ,ऐसे नहीं सिलूँगा। ” चूहा बहुत दुखी हुआ। वो कुछ सोचने लगा। उसे एक तरकीब सूझी। वो फिर से दर्जी के पास गया और बोला -”    पुलिस को बुलाऊंगा ,पिटाई करवाऊंगा    नहीं तो टोपी सिल दो भैया ,वरना जेल भिजवाऊंगा “दर्जी डर जाता है। उसकी टोपी सिल देता है। टोपी पहनकर ची-ची चूहा बहुत खुश हुआ। उसने सोचा अगर इस टोपी में सितारे भी होते तो मजा आ जाता। चूहा गया सितारे लगवाने। पहले तो सितारे वाले ने मना कर दिया ,फिर चूहे ने उसे भी वही धमकी दी –   पुलिस को बुलाऊंगा ,पिटाई करवाऊंगा    नहीं तो सितारे लगा  दो भैया ,वरना जेल भिजवाऊंगा “सितारे वाला भी डरकर जल्दी से सितारे लगा देता है। सितारे वाली टोपी पहनकर चूहा बहुत खुश हुआ। सोचा चलो अब पार्टी में चलते हैं। चूहा पहुंचा मंडप में। लेकिन ये क्या ? यहाँ उसे एक दरवान ने रोक लिया। दरबान उसे अंदर न जाने दे। उसने फिर वही धमकी दी -”    पुलिस को बुलाऊंगा ,पिटाई करवाऊंगा    नहीं तो अंदर जाने दो भैया ,वरना जेल भिजवाऊंगा “दरबान भी डर जाता है। वो चूहे को अंदर जाने देता है। चूहा अपनी समझदारी पर बहुत खुश हुआ। वो इठलाकर अकड़कर चलने लगता है। कभी इधर फुदकता ,कभी उधर फुदकता ,शोर मचाता चूहा चला जा रहा था अपनी ही धुन में ,ख्वाबो को बुनता हुआ मन ही मन में। तभी अचानक उसका पैर फिसला ,जा गिरा वो नाली में। हुई उसकी बहुत जग -हंसाई और खिंचाई। टोपी भी गन्दी हो गयी नाली में। अपनी टोपी देख चूहा रोने लगा। तभी वहां आयी एक नन्ही चुहिया, बोली मत रो भैया। जो हो गया ,होने दो ,आंसू पोंछो ,हंसो तो ,यह लो खाओ रसमलाई। अब तो थोड़ा हंस दो भैया। आओ मिलकर करें ता -थैया ,ता -थैया।

No votes yet.
Please wait...

dr Vandna Sharma

i m free launcer writer/translator/script writer/proof reader.

Leave a Reply

Close Menu