संकल्प लिया है मैंने

संकल्प लिया है मैंने

नम्र स्वभाव, अच्छा बर्ताव
सदा रखूंगी संजोकर पास
दुष्ट से जो पड़े पाला,
छीन ले मेरा निवाला
दूंगी उसे संत्रास
फटके न आसपास
संकल्प लिया है मैंने

अपनों में मिलके रहना
बच्चों से खुलके कहना
सम्मान सब बड़ों का
वंश की जड़ों का
रक्खूंगी सदा ध्यान
संकल्प लिया है मैंने

खुद पर ही विश्वास
हरदम जीवित आस
हाथों की कर्मठता में
दिखता है बस खास
जिंदादिल ईमान
होऊंगी न बेईमान
संकल्प लिया है मैंने

कलम चलेगी अनवरत
जब तक चिंतनशील
कर्मक्षेत्र में कर्मरत
तन-मन है तल्लीन
साथ रखूंगी स्वाभिमान
संकल्प लिया है मैंने
❖❖❖

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu