जादू

देखो

तुम्हें मैं एक जादू दिखाऊं

जीवन में हर पल आंनद

लेते हुए

जीवन जीने की कला सिखाऊं

बात हंसने की नहीं है न

पर हंस दो

दूसरे की आंख में जो आंसू आये

उन्हें आगे बढ़

बिना किसी हिचक के

पोंछ दो

हर बात को गहराई से समझो

पर इतनी गम्भीरता से भी मत लो कि

उसके गम्भीर परिणाम तुम्हें

भुगतने पड़े

पेड़ की डाली पे न पड़ा हो

सावन का झूला

तो न पड़ा हो

उपवन में फूलों की बहारें

न आती हो

तो क्या करना गिला

हवायें गर्म बह रही हो

न प्रदान करती हो शीतलता

यह उनकी मर्जी

आसमान भी हो जाये

निष्ठुर

धरती की माटी हो जाये

कठोर

न देती हो तुम्हें पांव रखने को

जमीन तो

कोई बात नहीं

जो कुछ घटित हो रहा है

उसे वैसे का वैसा घटित होने दो

तुम्हारा उसपे बस नहीं

चलता

तो न चलने दो

तुम तो देखो

एक सच्चे साधक की तरह कि

तुम्हारे हाथ में क्या है

पेड़ की डाल पर बैठो

आसमान की तरफ देखो

दिल में भरपूर उम्मीद भरकर

पूरा जोर लगाकर

बस सम्पूर्ण ताकत झोंक दो

और डाल हिलाकर

आसमान की तरफ

पेंग बढ़ाकर

जितना जी में आये

झूला झूलो

कहीं रुको नहीं

बिल्कुल थको नहीं

आसमान तुम्हारा लक्ष्य होना चाहिए

जमीन की तरफ नजरें झुकाकर

नीचे की तरफ कतई देखो नहीं।

 

मीनल

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu