कर लो मुझे क़ुबूल

कर लो क़ुबूल मुझको ॥
है दिल की पुकार ॥
ज़माना मना रहा है ॥
प्यार का त्यौहार ॥
मुझको क़ुबूल है सनम ॥
हम है तुम्हारे यार ॥

आया हूँ दूर से ॥
मुशिकलें बहुत थी ॥
तुम्ही तो लजाब हो ॥
बेसुरी बहुत थी ॥
हंस के गले लगा लो ॥
करके इजहार ॥
कर लो क़ुबूल मुझको ॥
है दिल की पुकार ॥
ज़माना मना है ॥
प्यार का त्यौहार ॥

शम्भू नाथ कैलाशी

No votes yet.
Please wait...

शम्भनाथ

पिता का नाम स्वर्गीय श्री बाबूलाल गाँव कलापुर रानीगंज कैथौला प्रतापगढ़ उत्तर-प्रदेश जन्म ०७/०८/१९७४ शिक्षा परानास्तक पुस्तकालय विज्ञानं पेसा नौकरी

Leave a Reply

Close Menu