मै पास तुम्हारे आया

उसने मेरे दिल को तोडा ॥
गम ने बहुत रुलाया ॥
दर्द मिटाने के खातिर ॥
पटियाला पैग लगाया ॥
फिर से देखो दिल बहलाने ॥
मै पास तुम्हारे आया ॥

आँखे मचलना भूल गयी ॥
होठ नहीं क्यों हँसते है ॥
बीती बाते याद जब आती ॥
वाक्य बहुत वे डसते है ॥
गौर से देखो कौन है आया ॥
सोती रात जगाया ॥
दर्द मिटाने के खातिर ॥
पटियाला पैग लगाया ॥
फिर से देखो दिल बहलाने ॥
मै पास तुम्हारे आया ॥

कद्र तुम्हारी किया नहीं मै ॥
फंस गया उसके जाल में ॥
जीवन में भूचाल है आया ॥
ओ खुद जायेगी भाड़ में ॥
संकट में तुम साथ दो मेरा ॥
अब अपना तुम्हे बनाया ॥
दर्द मिटाने के खातिर ॥
पटियाला पैग लगाया ॥
फिर से देखो दिल बहलाने ॥
मै पास तुम्हारे आया ॥

शम्भू नाथ कैलाशी

No votes yet.
Please wait...

शम्भनाथ

पिता का नाम स्वर्गीय श्री बाबूलाल गाँव कलापुर रानीगंज कैथौला प्रतापगढ़ उत्तर-प्रदेश जन्म ०७/०८/१९७४ शिक्षा परानास्तक पुस्तकालय विज्ञानं पेसा नौकरी

Leave a Reply

Close Menu