यह जो जुगाड़ू हिन्दी वालों की थाती है …

यह जो जुगाड़ू हिन्दी वालों की थाती है …

By | 2016-10-06T08:49:55+00:00 September 25th, 2016|Categories: आलोचना, कविता|1 Comment

आज तो सब कुछ हिन्दीमय लग रहा है

यह कातिलाना अंदाज़ किसको ठग रहा है

लगता है कोई अधूरा स्वप्न जग रहा है

क्या सूखे फूल पर तितली मँड़राती है ?

किस अँधेरे में यह कोयल गाती है

अब तो दिया अलग है अलग बाती  है

यह जो जुगाड़ू हिंदीवालों  की थाती है

अंग्रेजी पीती है और अंग्रेजी खाती है

देशी को हिंदीबाज़ी  से फुसलाती है

स्वघोषित मूर्धन्यों की कलाबाज़ी है

परम्परा में छेद खोजता प्रगतिवादी है

टूटे तेवर में कितना उछल रहा है

अपना देश कितना फुसल रहा है

भाषाओँ के ढेर में विविध अंदाज़ हैं

कोलाहल करते कितने ही साज़ है

भाषा है और कितनी ही विभाषा है

राष्ट्र तुम्हारे आवाज़ की क्या परिभाषा है ?

तुम तो कई भाषाओँ में बोलते हो

कितनों का गुप्त राज खोलते हो

तुम तो अनेक रहते हुए में एक हो

भाषा के मामले में भी प्रत्येक हो

कदम कदम पर ले रहे टेक हो

इसी में यह हिंदी आ जाती है

टिटिहिरी की तरह टर्राती है

हिन्दीवाले भी बूझते है

अहिन्दी वाले भी बूझते है

विचित्र बात पर जूझते है

गाते बजाते एक संग्राम है

यही हिंदी दिवस का प्रोग्राम है

भाई साहब आज हिंदी में सलाम है ।

— अनिल कुमार शर्मा

In Roman 

Aaj to sab hindimay lag raha hai

Yah katilana andaj kisko thag raha hai

Lagta hai koi adhura swapn jag raha hai

Kya sukhe ful pe titli mandrati  hai?

Kis andhere me yah koel gati hai

Ab to diya alag hai alag bati hai

Yah to jugadu hindiwalon ki thati hai

Angregi piti hai aur angregi khati hai

Desi ko hindibaji se fuslati hai

Swaghosit murdhanya ki kalabaji hai

Parampra me ched khojta pragtiwadi hai

Tute tewar me kitna uchal raha hai

Apna desh kitna fusal raha hai

Bhasaon k dher me wiwidh andaj hai

Kolahal karte kitne hi saj hain

Bhasa hai aur kitni wibhasa hai

Rastra tumahare aawaj ki kya paribhasa hai?

Tum to kai bhasaon me bolte ho

Kitnon ka gupt raaz kholte ho

Tum to anek rahte hue me ek ho

Bhasa k mamle me bhi pretyek ho

Kadam kadam pe le rahe tek ho

Isi me yah hindi aa jati hai

Tithiri ki tarah trrati hai

Hindi wale bhi bujhte hain

Ahindi wale bhi bujhte hain

Wichitra baaat pe jujhte hain

Gate bajate ek sangram hain

Yah hindi diwas ka program hai

Bhai sahab aaj hindi me salam.
— Anil kumar Sharma

Comments

comments

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

About the Author:

live in ghazipur

One Comment

  1. hindilekhak September 25, 2016 at 11:07 pm

    बहुत ही सुन्दर रचना। बहुत बहुत बधाई !

    No votes yet.
    Please wait...

Leave A Comment