तुम गीत, मैं शब्द

तुम गीत, मैं शब्द

By | 2016-12-20T08:28:04+00:00 December 19th, 2016|Categories: कविता|Tags: |0 Comments

तुम गीत तभी लिखते हो
जब मैं शब्द बेचता हूँ
मोल तभी तक इन गीतों का
क्योकि मैं शब्द बेचता हूँ
शब्दों के सुंदर सगुंफन से
अर्थ लालितत्य सँवरता है
शब्दों के सुंदर संगुफन से
भाव नया नित्य निखरता है
जब गीत स्वरित होता ओज में
महफिल गूँज जाया करती है
जब दिल टूट रोता है वेदना में
तार मन के झंकृत हो जाते है
मन वियोगी जब खो जाता है
शब्द मनकों से बिखर जाते है
गीत प्रिय का विप्रलम्भ बन कर
अन्तस में बेधी शूल चुभो जाता है
तेरे गीतों का फिर क्या होगा यदि
शब्दों की ज्वाला इनसे निकले
हृदय भित्तियाँ सब जल राख हो गई
गीत सब जल के धुआँ कर उठे
प्यार से गीतों के शब्दों को सँभाला
विक्रेता बन तूने लगा दी बोली
गीत मधुर मिले उसी प्रिय प्रेमी को
छलनी हृदय मिले वियोगी को

डॉ मधु त्रिवेदी

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About the Author:

Leave A Comment