अकेलेपन का साथी

अकेलेपन का साथी

By | 2017-08-04T23:31:50+00:00 August 4th, 2017|Categories: मुक्तक|1 Comment

आज अकेलेपन को ही
बना लेते हैं साथी
फिर चलते हैं
तन्हाईयों में
फिर
देखते हैं
क्या कहती हैं
ख़ामोशियाँ चुपके से
उदासियाँ रहेंगी
या लौट जायेंगी
दबे पैर
किसी ख़ुशी को लेने
ज़िंदगी मुस्करायेगी कभी
एक पल को ही सही
————————–
राजेश”ललित”शर्मा

Comments

comments

Rating: 4.5/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
एक अध्यापक पर पिछले ४० वर्षों से लिखना,पढ़ना,राष्ट्र एवं समाज सेवा अध्यात्म चिंतन, साहित्य सेवा आदि कार्यों में संलग्न।

One Comment

  1. दीपेश शर्मा August 8, 2017 at 9:19 pm

    अकेलापन भी साथी हो सकता है।कविता में गम्भीर प्रयोग।

    No votes yet.
    Please wait...

Leave A Comment