फीके सभी मज़े हैं

Home » फीके सभी मज़े हैं

फीके सभी मज़े हैं

By | 2017-08-06T15:12:58+00:00 August 6th, 2017|Categories: गीत-ग़ज़ल|0 Comments

मित्रता दिवस के उपलक्ष्य में प्रस्तुति :

कुंआ खाई सम्मुख है मेरे , राह नहीं सूझे है !
सही यार की कमी ज़िन्दगी , खलती आज मुझे है !!

गर्दिश में भी जिसके संग में , हम झूमा करते थे !
आज उसकी याद में गुमसुम , फीके सभी मज़े हैं !!

मस्त बहारें झूम के जब भी , गले हमारे पड़ती !
राह में पड़ने वाले पत्थर , हमसे गये पुजे हैं !!

दौलत शोहरत खूब कमाई , अवसर एक न चूका !
अपने , अपनापन खोया है , सपने बुझे बुझे हैं !!

रास रंग में डूबे ऐसे , दुनिया भूल गये हम !
समय की मार पड़ी है एसी , बारह आज बजे हैं !!

आंख मिचौली ,धींगा मस्ती , याद आ रहा सब कुछ !
प्रियवर सब कुछ हासिल है तो , भूले आज तुझे हैं !!

एक तेरी उम्मीद है बाकी , आस अभी ना टूटी !
गूढ़ पहेली ऐसी उलझी , तुम बिन ना सुलझे है !!

बृज व्यास

Comments

comments

Rating: 3.3/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About the Author:

Leave A Comment