चिड़िया मेरे अंगने में आती

चिड़िया मेरे अंगने में आती

By | 2017-08-17T12:50:12+00:00 August 17th, 2017|Categories: कविता|0 Comments

एक प्यारी सी चिड़िया मेरे अंगने में आती
चीं चीं करती हर फूल पर बैठा करती

नये नये खेल दिखा कर मुझे रिझाया करती
मेरा मन जब भी उसको देखे भाव अलग हो जाते

सारे काम छोड़ कर उससे मैं बतियां करती
न उसे कुछ समझ आता न मैं समझ कुछ पाती

फिर भी न जाने हम कितनी बतियां करते
रंग बिरंगी तितली चारों ओर उड़ा हैं करती

फूलों पर भंवरे भी गुनझुन गुनझुन करते हैं डोलें
हल्की हल्की बारिश की बौछारें मन को भीगा करदें

एक प्यारी सी चिड़िया मेरे अंगने में आती
चीं चीं करती हर फूल पर बैठा करती

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About the Author:

Leave A Comment