जिंदगी

जिंदगी

By | 2018-05-12T19:23:26+00:00 September 26th, 2017|Categories: लघुकथा|Tags: , , |0 Comments

लघुकथा -ज़िन्दगी

रीवा ने डॉक्टरी पढ़ाई के बाद उस से ४ साल सीनियर डॉक्टर रुपेश ने नया नर्सिंग होम शुरू किया था, उस से पार्टनरशिप कर ली। अपने पापा की लाड़ली रीवा के खबर सुनाते ही प्रो.अमरीश की आँखों में आंसू आ गए।

पत्नी की मोत के बाद ११ साल की छोटी-सी रीवा को बड़े प्यार से पाला था। आज अपने सपनो की उड़ान भर रही बेटी रीवा रूपेश से अगले साल शादी भी कर रही है ,ये जानकार तो जैसे दिल एकदम हल्का-सा खुशियों से भर गया।नर्सिंग होम बहुत प्रगति कर रहा था। डॉ।रुपेश इतवार को भी काम करते रहते। नया घर भी बुक करवा लिया था।

रीवा अपनी सहेली वित्वा, जो दूसरे शहर के ससुराल से आयी थी उसके घर मिलने गयी, देर तक बाते करती रही दोनों। इतने में उसकी भाभी साहिला को देख रीवा अचानक से बोल पड़ी,

“अरे भाभी आप ऐसे कैसी हो गयी? तबियत ठीक नहीं है क्या?”

वित्वा ने कहा,
“मैंने कितना समझाया और माँ-भैया को भी बोला कि इस तरहा गर्भपरीक्षण करवाना ग़लत है। दो बेटीयाँ है तो क्या हुआ? लेकिन …”

रीवा थोड़ा गुस्से होते हुए,
“कोन है ये डॉक्टर? में शहर की युवा पाँख की मेंबर हुँ और हमने तो ऐसे लोगो को सबक सिखाने का अभियान छेड़ा है”

तभी माँ ने बताया, “कोई डॉक्टर रुपेश का नसिंँग होम है जहाँ सिर्फ़ रविवार को ऐसे केसिस लेते है”

और ,ये सुनते ही रीवा के पैरो तले से ज़मीं खिसक गयी और गुस्से से उसकी आँखों में आंसू आ गए ।वित्वा भी ये सुनकर भौचक्की रहे गयी और रोती हुई रीवा को संभालने लगी ।
“रीवा तू गुस्से में कोई कदम ना उठाना”

रीवा ने घर जाकर अपने आप को रुम में बंध कर लीया और लाख समझाने पर अपने पापा प्रो.अमरीश को रोते हुए ये बात बतायी ।

“रीवा ये तो बहोत ही ग़लत हो रहा है, लेकिन बेटा तू सोच संभलकर कोई भी नियँण लेना”

” पापा आपकी बेटी कभी कोई ग़लत बात में किसीका साथ नहीं देंगी ।

थोड़ी देर के बाद रुपेश से मिलने गयी,

“क्या बात है क्यों ऐसे उखड़ी-उखड़ी लग रही हो?”

“ये तुम्हारे बारे में जो सूना है क्या ये सच है?”

“अ …आ….ऐसा …तो …कुछ …”

और रीवा समाज गयी की रुपेश उसे “सन्डे आराम करो” कहकर हॉस्पिटल आने से मना क्यों कर रहा था ।

बहुत आरग्युमेन्ट के बाद डॉक्टर रुपेश,

“ये हॉस्पिटल तुम्हारे और तुम्हारे बाप के सिंद्धान्तो पर नहीं चलता, मुझे अपनी लाइफ में आगे बढ़ना है”

“लेकिन में मासूमो की ज़िन्दगी मारकर अपनी जिदगी नहीं सवाँरना चाहती”

और …रीवा इतना सुनाकर निकल आयी।

पंद्रह दिनों बाद पेपर में खबर छपी थी, “शहर के मशहूर डॉक्टर रुपेश पुलिस के हाथ रंगेहाथ अबॉर्शन करते पकडे गए और इस बात से नाराज़ उनकी फियांसे और पार्टनर डॉक्टर रीवा ने विवाह तोड़ दिया”

-मनीषा जोबन देसाई

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7
    Shares

Leave A Comment