कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ

कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ

By | 2017-10-24T10:00:17+00:00 October 24th, 2017|Categories: अन्य|2 Comments

कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ
तुझको ही खुआव बनाकर के हर पल जीता मरता हूँ
कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ
बिन तेरे न जी सकता मै एक पल बिन तेरे मै हर पल मरता हूँ
कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ
जो लम्हे है तेरे साथ बिताये उन्हें सोच तड़पता रहता हूँ
मुझे मालूम है कि तू न समझेगी मै खुद को ही मनाता रहता हूँ
कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ
बिन तेरे न जी सकता मै एक पल बिन तेरे मै हर पल मरता हूँ
कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ
बिन तेरे न जी सकता मै एक पल बिन तेरे मै हर पल मरता हूँ
कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ
कर न मोह्हबत तू मुझसे मै तुझसे ही मोह्हबत करता हूँ

Comments

comments

Rating: 4.8/5. From 25 votes. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

About the Author:

2 Comments

  1. सुबोध October 27, 2017 at 10:01 am

    बात बिगड़ने में वक़्त नहीँ लगता
    सँवरने-सँवारने में ज़माने लग जाते हैँ..

    नीँव के पत्थर गर वेवफ़ा हो जायें
    तो
    मंज़िल बनाने को ज़माने लग जाते हैँ.!”

    Rating: 5.0/5. From 2 votes. Show votes.
    Please wait...
  2. ABHISHEK YADAV October 27, 2017 at 9:30 pm

    एकदम सही का सुबोध जी

    Rating: 5.0/5. From 2 votes. Show votes.
    Please wait...

Leave A Comment