संजना और सुंदरता

संजना और सुंदरता

By | 2017-12-25T16:32:06+00:00 December 25th, 2017|Categories: कहानी|Tags: , , |0 Comments

यह एक सच घटना है जिसे हमने कहानी का रूप दिया है जो काल्पनिक है।।
कालेज के समय की बात है। हमारे कालेज में एक लड़की ने एडमिशन लिया चांस की बात थी वह भी हमारी ही क्लास में थी। पहले दिन जब वह कालेज में आयी सारा कालेज उसे देखता रह गया बहुत ही सुन्दर लड़की जैसे कोई संगमरमर की मूरत हो सभी उसको देखकर चकित से रह जाते थे। जब वह हमारी क्लास में आयी हम सभी मन्त्र मुग्ध देखते रह गए, उसके चेहरे से नजर हटने का नाम ही नहीं ले रही थी। सुंदरता होती ही ऐसी है चाहे वह फूल हो या लड़की या कोई वस्तु आकर्षित तो करती है।
उसको देखने के लिए लड़के लाइन लगा कर खड़े रहते हों तो यह आश्चर्य नहीं होगा, हमारी ही क्लास में थी इसलिए उसका नाम हम जान गए उसका नाम संजना था, संजना बहुत ही प्रतिभावान थी पढ़ाई में हम भी ठीक-ठीक थे मेरी उससे दोस्ती हो गई धीरे-धीरे खास सहेली बन गई। एकदिन मैंने उससे कहा संजना तुम बहुत सुंदर हो तुम्हें तो लड़के बहुत परेशान करते होंगे वह बोली हां करते हैं लेकिन हम ध्यान नहीं देते हैं। फिर बताने लगी हमारे लिए रिश्ता आया है लड़के वालों की तरफ से और लड़का सरकार में प्रशासनिक सेवा में उच्च पद आसीन है। मां-बाप हमारी शादी करने को तैयार हैं, लेकिन मैं अभी तैयार नहीं हूँ मैं अभी पढ़ना चाहती हूँ लेकिन पिता कहते हैं इतना अच्छा रिश्ता हम नहीं ढूंढ पाएंगे।
फिर एक दिन आकर उसने मुझे बताया हम तैयार हो गए हैं, लड़का हमको बहुत प्यार करता है लड़का काफी उंचे पद पर है ना करने की गुंजाइश नहीं है, मैं भी खुश हो गयी चलो अब सहेली की शादी में खूब धमाल मचाएंगे शादी की तैयारी शुरू हो गई धूमधाम से शादी हो गई और संजना ससुराल चली गई, कुछ दिनों तक हमारी बात हुई फिर बात भी बंद हो गयी हमने फोन भी किए पर उठाया नहीं गया।
करीबन सात महीने के बाद एक चिट्ठी आयी हमारे पास चिट्ठी संजना की थी। मोबाइल के जमाने में चिट्ठी का आना आश्चर्यजनक लगा मैंने चिट्ठी पढ़ी तो दंग रह गयी उसने अपनी करुण अवस्था का वर्णन था उसने लिखा था उसका पति बहुत ही शक्की स्वभाव का है वह उसको किसी से बात नहीं करने देता घर का काम नौकरों से अपने सामने करवा लेता है। फिर सारे खिड़की और दरवाजे ताला लगा कर जाता है, अक्सर मैं खिड़की खोल कर अपनी पड़ोसन से बात कर लेती हूँ, एक दिन मेरे पति ने देख लिया इस कारण उसने हमें बुरी तरह पीटा प्यार तो बहुत करता है पर ऐसे प्यार से क्या फायदा, यही नहीं वह जब मार्केट ले जाता है उसकी नजर हम पर ही होती है वर्ना कार में हमको बैठाकर खिड़कियां बंद कर चाबी से ताला लगाकर ले जाता है सरकार में प्रभाव के कारण मेरे परिवार वाले चहाकर भी कुछ नहीं कर पा रहें हैं। चिट्ठी पढ़कर बहुत ही परेशान हो गयी। अत्यधिक सुंदरता किसी के लिए श्राप भी बन सकती है सोच भी नहीं सकते, बहुत दुखी हो गई मैं क्या कर सकती हूं सोचने लगी।
तभी दो-तीन बाद खबर मिलती है कि उसने फांसी लगा ली अपनी जान ही दे दी उसने। वह डिप्रेशन में आ गई थी।
एक बेहद सुंदर लड़की का ये कैसा दर्दनाक अंत हो गया यह मेरे लिए एक सदमे के समान था।।

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About the Author:

Leave A Comment