जय हिंद जय भारत

जय हिंद जय भारत

By | 2018-01-26T16:27:40+00:00 January 26th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

ये नारंगी हरा सफेद रंग है
कौन देश की बाला तुम हो
यहां किस काम से गुजरिया
काहे इतनी उदास खड़ी हो
किसी बात से नाराज तुम हो
ये भारत का लहराता ध्वज है
बाला जिसे पहने खड़ी हो
मैं भारत माता हूँ प्यारो
विचरण करने आयी देश का
यहां के हालात बड़े दुखदायी
अतिभष्टाचारी तुम बन गये हो
ऐसा लगता रावण की लंका
अत्याचारी बलात्कारी बने हो
बालिकाओं को दुख दे रहे हो
बहुत दुखी आत्मा से रोयी
तुम मेरे बच्चे हो प्यारे
इंसानियत कहां खो गई
बस धर्मों में बंधे हो
मेरे बच्चों जिम्मेदारी संम्भालो
भारत को विश्व गुरु बना दो
संस्कारों से भरा देश को कर दो
विश्व में भारत की पहचान बना दो
#नीरजा शर्मा #
यह एक काल्पनिक कविता है। ऐसा लगता है भारत मां आज अपने देश के भ़मण पर निकली और उनके मन के इस तरह के विचार उठ रहे हैं ।।
।। भारत माता की जय।।
आप सभी को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

Comments

comments

Rating: 2.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    5
    Shares

About the Author:

Leave A Comment