फिर भी तुमको चाहेंगे

फिर भी तुमको चाहेंगे

By | 2018-01-31T08:20:49+00:00 January 31st, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |2 Comments

खा-खा कर ठोकरे हम, पत्थर तक बन जाएंगे ।

तुम चाहो या न चाहो,  फिर भी तुमको चाहेंगे ।।

तन्हा हुआ जो दिल , अब और न बाटेंगे ।

छुुप-छुुप कर रोयेंगे, फिर भी तुमको चाहेंगे ।।

संग गुजारे हर लम्हे, हम कैैसे भुल पाएंगे ।

तुम हो जाओगी पराई, फिर भी तुमको चाहेंगे ।।।।

– राहुल”राज”रोहतासी
जवाहर नवोदय विद्यालय,
सरायकेला, झारखंड

Comments

comments

Rating: 4.5/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    5
    Shares

About the Author:

नमस्ते मेरे प्यारे भाईयो एवम् बहनो मेरा नाम राहुल कुमार है। मै जवाहर नवोदय विद्यालय सरायकेला झारखंड का छात्र था। मै अभी 11 कक्षा मे पढ़ाई करता हूं।

2 Comments

  1. saurabh_1 January 31, 2018 at 9:31 pm

    वाह! क्या बात है…..बहुत सही|

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...
  2. RahulKumar February 1, 2018 at 9:00 am

    Ji dhanyawad bhaiya

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...

Leave A Comment