सागर जैसा साहित्य

सागर जैसा साहित्य

By | 2018-02-23T20:23:46+00:00 February 23rd, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

पवन गति सा जो मैं उड़ती
साहित्य प्राप्ति बनी लालसा
गघ पघ को जब पहचाना
होश हवास उड़ गये मेरे
जिसको जाना निर्मल झरना
अंतहीन वह सागर निकला
मन की सोच जब भी लिखती
व्याकरण के घेरे में आ जाती
मात्रा जब बनती लेखनी
हास्य व्यंग्य सा मुझसे करती
अलंकारों को जब सजाती
मैं बन जाती देशी नारी
मुहावरों को भाषा बनाती
मिट्टी का सा कण बन जाती
#नीरजा शर्मा # शुभरात्रि

Comments

comments

Rating: 3.0/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

About the Author:

Leave A Comment