मृत्यु : एक शाश्वत सत्य य पहेली

मृत्यु : एक शाश्वत सत्य य पहेली

               मृत्यु :  एक  शाश्वत सत्य य पहेली (कविता)

                        नियति ही तो भेजती है तुझे और तू आ जाती है,

                        मगर  दोष  क्यों  इंसानों पर तू  मढ़  जाती है.

                         देखते ही देखते  एक जीते जागते इंसानको ,

                       एक  लौटा भर राख के ढेर में बदल देती है .

                       क्या !  कब ! कैसे ! और  क्यों ? हे  राम !

                      और  एक आह  जुबां से तब निकल जाती है .

                      दबे पाँव आती है  तू चुपके से बिना कोई आहट के ,

                       और रूह को हमारी  तन से  खिंच ले जाती है

                      ख़ुदकुशी ,ह्त्या  ,जानलेवा हादसा या असाध्य रोग,

                      बहाने  चाहे कोई भी हो तू तो अपना फ़र्ज़ निभाती है

                      यह तो हम ही है इस जगत की माया में फंसे मुर्ख इंसा ,

                    तेल जितना होगा तन मैं उतनी ही तो  जलेगी बाती .

                      करके  आये  आज किसी का दहन  जलती  चिता पर,

यही  चिता   बारी  -बारी  अपनी और सब को  बुलाती है .

इस नश्वर देह को सजाते सँभालते पालते  है अमरता का ख्वाब,

देखकर हमारी मुर्खता को  कुदरत  हम पर हंसती  है.

इस आती जाती श्वास का कोई भरोसा नहीं ,ना ही इस तन का ,

शाश्वत इस मृत्यु से  मात्र प्रभु-भक्ति  ही  तारती है.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Comments

comments

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 35
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    35
    Shares
संक्षिप्त परिचय नाम -- सौ .ओनिका सेतिया "अनु' , शिक्षा -- स्नातकोत्तर विधा -- ग़ज़ल, कविता, मुक्तक , शेर , लघु-कथा , कहानी , भजन, गीत , लेख , परिचर्चा , आदि।

Leave A Comment