निर्दोष समां

निर्दोष समां

। । ॐ । ।

* मेरी मातृभाषा पंजाबी व राष्ट्रभाषा हिन्दी है ; मैं दोनों भाषाओं में लिखता हूँ ।

प्रस्तुत कविता पंजाबी भाषा में है । *

* निर्दोष समां *

मत्था टेक के मँदरों निकले
मगरों पाँधा जी ने मार ली हाक
अब्भड़वाहे बदाना डिगया भुँज्जे
हनुमान जी दा चढ़ गया सराप
खिद्दो – खूँडी खेडदे
लड़ पए जुआक

खिद्दो – खूँडी खेडदे . . . . .

जीते दी खूँडी फीरे सिर वज्जी
हो गया खूनो – खून
भिंदा कैंहदा भज्ज लओ पतंदरो
औह तुरया औंदै चाचा अफलातून
ओहनूं नहीं दींहदा कोई रिश्ता
सब दे मारू चपाट

खिद्दो – खूँडी खेडदे . . . . .

करतारा चढ़या लंमीं घोड़ी
रतने दे मारी अड्डी
भजने ने फिर हेठों दी
छिंदे दे चूँढी वढ्ढी
बचने दा बई गुट लैह गया
उत्तों डिग्गया आपणे आप

खिद्दो – खूँडी खेडदे . . . . .

ठीपू दी इक ठीकरी
जा के वज्जी बीरी दे
चोजी झट दी पासे हो गया
गेंद जा वज्जी लंबड़ां दे सीरी दे
सुज्ज के नक भड़ोला हो गया
नाले चढ़ गया ताप

खिद्दो – खूँडी खेडदे . . . . .

अगले दिन अशनी कैंहदा मैं नहीं औणा
मैंनूं रोकदै मेरा बापू
मुँडे कैंहदे वग लओ बेलियो
एह हुण खेडू स्टापू
हसदयाँ – खेडदयाँ वज्जी नूं भुल के
इक दूजे नूँ कर दयो माफ

खिद्दो – खूँडी खेडदे . . . . . ।

१५-१२-२०१६ –वेदप्रकाश लाम्बा

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 3
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    3
    Shares

Leave A Comment