शोर

Home » शोर

शोर

By | 2018-04-09T22:19:47+00:00 April 9th, 2018|Categories: कविता|Tags: , |0 Comments

सारा वक्त परेशां से थे हम,
ना जाने क्या शोर था ;
बहुत कुछ टूटने की आवाजें थी,
दिमाग सै सोचा जो इक पल,
तूफां था जो दिल में उठा था|
अंजना योगी

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares

About the Author:

Leave A Comment