प्रेम में

प्रेम में

By | 2018-04-22T13:49:29+00:00 April 22nd, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

मैं हूँ उन चंद खुशनसीबों में से एक
कि जिन्हें,
प्रेम में,
मिले हैं प्रेम पत्र |

मैं हूँ खुशनसीब
कि मुझे
प्रेम में,
लड़की ने दी है अँगूठी गिफ्ट |

प्रेम में,
लड़की ने मुझपे किये हैं अजीबोगरीब इशारें ;
कि जिन्हें याद कर गुदगुदाता हूँ मैं |
और कहने में कतराता हूँ |

प्रेम में,
वो बनाकर बहाने
आती रहती थी घर के बाहर;
सिर्फ और सिर्फ मुझे देखने |

हाँ हूँ मैं खुशनसीब कि –
प्रेम में,
लड़की ने मेंहन्दी से अपनी हथेली पर
लिखा था मेरा नाम |

हाँ, वही नाम
जो,
कुदरत ने नहीं लिखा था;
उसके नसीब में |

हाँ हूँ मैं फिर भी खुशनसीब
कि –
हर एक लड़के को तो नहीं होती नसीब |
प्रेम के लिए एक लड़की भी |

– महेश चौहान चिकलाना

Comments

comments

Rating: 4.5/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares

About the Author:

लिखने का शौक है

Leave A Comment