जीवन – जाच ( दो )

जीवन – जाच ( दो )

 

ओ करमां वालयो !
कंन धर के सुण लओ उसदी
जेहड़ा सुणे तां फेर सुणावे
किद्धर गए मंजियां दे सेरू
किद्धर तुर गए पावे
जिस तन लग्गी सोई जाणे
दूजा ऐवें मन परचावे
जग ज्यूँदयां दे मेले सारे
गहणे जुत्तियां ते पहरावे
रूप जवानी दो दिन मेला
दो दिन ही नैण मटकावे
निर्बल होए जां बली योद्धा
हर कोई मर जावे
मर गयां नाल कोई न खेडे
न कोई नाल खिडावे
कर उपराले मैं थक गया
नहीं खेडदे मिट्टी दे बावे . . . . .

करम जे होवण बहुत ही माड़े
अग्ग विछोड़े वाली साड़े
भठ्ठ पाइए ओह सोना गहणा
जेहड़ा कंनां नूँ पाड़े
नहीं खेडदे मिट्टी दे बावे . . . . . !

वेदप्रकाश लाम्बा ९४६६०-१७३१२

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

Leave A Comment