जीवन – जाच ( चार )

जीवन – जाच ( चार )

* मेरी मातृभाषा पंजाबी व राष्ट्रभाषा हिन्दी है ; मैं दोनों भाषाओं में लिखता हूँ । प्रस्तुत कविता पंजाबी भाषा और देवनागरी लिपि में है । *

* * * * *
जीवन – जाच
* * * * *
( चार )

ओ सच्चे प्रेमियो
कंन धर के सुण लओ उसदी
जेहड़ा अर्थ प्रेम दे समझे ते समझावे
न किसे दियां मज्झियां चारे
न पट्ट दा मांस खुआवे
जम्मण वालयां दी पत्त नूँ घड़े ते धर के
न वगदे पाणी नाल बहावे
न मारूथलां विच फिरे भटकदा
न किसे दी इज़्ज़त नूँ हत्थ पावे
सच्चा प्रेमी धर्म न छड्डे
पुत्त कंधां विच चिणवावे
पिता – प्रेम दी सच्ची मूरत
सप्पां दा यग्ग रचावे
कदे – कदाईं कोई जनमदी अमृता
कदे – कदाईं कोई इमरोज़ कहावे
दिल वस जाए जद नैणाँ अंदर
सोहणे लगदे ने मिट्टी दे बावे . . . . .

करम जे होवण बहुत ही चंगे
अखीर सरीर ते सजण तिरंगे
धन जवानी राजगुरु भगत सुखदेव दी
अग्गे वद्ध के हत्थ मौत दा मंगे
सोहणे लगदे ने मिट्टी दे बावे . . . . . !

वेदप्रकाश लाम्बा ९४६६०-१७३१२

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

Leave A Comment