कुछ बातें ज़िन्दगी की

कुछ बातें ज़िन्दगी की

By | 2018-05-06T16:22:13+00:00 May 6th, 2018|Categories: कविता|Tags: , |0 Comments

कुछ बातें महज बातें हैं होती
जैसे कुछ दर्द जिन्दगी के बयाँ नहीं होते
न भुला सके हम, न जता सके उनको
लाख कोशिशों के,
दर्द को छुपा न सके हम
जो ज़िन्दगी ऐसे दोराहे पर है होती
यादें हो या बातें हैं दर्द बहुत देती
तु दिल का सुकून है आँखों का तारा
तु मुझको जँ से भी प्यारा
तुझको दिल देकर ज़िन्दगी बनाया
फिर भी……..
हुआ है जाने क्या दिल को मेरे आज है
अब जो मेरा हाल है,
बिन तेरे, ये ज़िन्दगी उदास है
बे इन्तहा बेहाल है
न कोई कोई खाश है, तू जो दिल के पास है
न कोई आश है, जो तेरा साथ है
तू मेरा हमदर्द है फिर भी जाने क्यों दर्द है
दिल के इस दर्द को मैं छुपाऊँ कैसे
चाहूँ भी तो तुझको दिखाऊँ कैसे
फिर भी जाने तमन्ना
तु इतनी खाश है
दिल को तेरी चाहत की प्यास है
जो तू दिल के पास है
न कोई गम है
जो तू मेरा हमदम है
हाँ तू मेरा हमदम है……

सुभाष उर्फ सुबोध
06-05-18 09:30AM

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share

About the Author:

Leave A Comment