मृगतृष्णा

मृगतृष्णा

By | 2018-06-10T12:46:33+00:00 June 10th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

मृगतृष्णा

छोटे -छोटे पाँव ले जन्मा
ले छोटे -छोटे हाथ ।।
छोटे-छोटे कदमों से ही
आंगन था लेता माप ।।
निर्भरता लगी चुभने फिर
रोक-टोक नहीं जंचती थी।
चंचल मन की मर्जी थी ।
आजादी की जल्दी थी ।
गली-मोहल्ले खलिहान वो सारे ।।
दोस्तों के वो छत-चौबारे ।।
भरमाते थे अनुशासन के
राह से भटकाते थे ।।
चीखते थे कानों में सारे
जल्दी-जल्दी बड़े बने हम
जल्द बने परिंदे आजाद ।।
अब जब सब है अपने हाथ ।।
अक्ल समझ का पूरा साथ ।।
मर्ज़ी रोती सुबक-सुबक अब
आजादी जी का जंजाल ।।
ये कैसे बन गए हालात ।।
रास न आया हमें विकास ।।
चंद सिक्कों में खुशी खरीदते ।
चंद सिक्कों में सपने साकार ।
सारा शहर था जो कल अपना ।
अब पता न अपना हाल ।।
उठते-भागते ,गिरते-संभलते ।
दही छोड़ अब मथते छाछ।।
क्या खोया क्या पाया हमने?
बस मृगतृष्णा ही आई हाथ।।

।।मुक्ता शर्मा ।।

Comments

comments

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

About the Author:

सरकारी स्कूल में हिन्दी अध्यापक के पद पर कार्यरत,कालेज के समय से विचारों को संगठित कर प्रस्तुत करने की कोशिश में जुटी हुई , एक तुच्छ सी कवयित्री,हिन्दी भाषा की सेवा मे योगदान देने की कोशिश करती हुई ।

Leave A Comment