मैं अकेला. . .?

मैं अकेला. . .?

मैं अकेला . . .?

मेरे ख़्वाबों की कश्ती
और अहसासों के पंछी

कश्ती पानी में तैर रही
तो पंछी आकाश में
के पंछी भी, कश्ती भी
दोनों, एक सीध में हैं !

कश्ती पर बैठा हुआ मैं
ताकता रहा पंछियों को
और सोचता रहा कि.
मैं अकेला क्यों हूँ . .?

नीला गगन पिघलता गया
जैसे नीली बर्फ़ पिघल रही हो

समंदर भी नीला – नीला
आकाश भी नीला – नीला
मगर मैं और मेरे ख़याल
जैसे पीले-से पड़ गए हैं !!

और मैं सोचता रहा कि.
मैं अकेला क्यों हूँ ?
. . .
. . .
आख़िर,
मैं अकेला क्यों हूँ ?

  • जंगवीर सिंह राकेश

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
    5
    Shares

Leave A Comment