बैकग्राउंड

Home » बैकग्राउंड

बैकग्राउंड

By |2016-07-17T20:44:38+00:00May 22nd, 2016|Categories: लघुकथा|Tags: |0 Comments
” ये कहाँ लेकर आये हो मुझे । “
” अपने गाँव ,और कहाँ ! “
” क्या , ये है तुम्हारा गाँव ? “
” हाँ , यही तो है हमारा गाँव ,
ये देखो हमारी बकरी और वो रहा मेरा भतीजा ।”
” ओह नो , तुम इस बस्ती से बिलाँग करते हो ? “
” हाँ ,तो ? “
” सुनो , मुझे अभी वापिस लौटना  है । “
” ऐसे कैसे ,वापस जाओगी ? तुम इस घर की बहू हो । बस माँ अभी खेत से आती ही होगी । “
” मै वापस जा रही हूँ । साॅरी , मुझसे भूल हो गई । तुम डाॅक्टर थे इसलिए ….”
” तो …. ? इसलिए क्या ? “
” इसलिए तुम्हारा बैकग्राउंड नहीं देखा मैने । “
कान्ता राॅय
भोपाल
Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment