मैं आत्मजा

 

तेरे ही हूँ मैं पाती

हूँ तुझ से आकार लिया

तेरे जीवन की मैं धाती

 

तूने मुझमें जीवन पाया

तेरा स्वास स्वास भर आया

मेरे आने से जीवन में

तूने जैसे नवजीवन पाया

 

मैं तनया तू आत्मज मेरा

तेरी छाया हैं आंगन मेरा

तेरे ही हाथों को थामे

जीवन के हर सुख दुःख झेला

 

मेरे सांसों की डोरी पर

हर पल हैं अधिकार हैं तेरा

मुझको सुता जान भी तूने

दिया प्राण ये सम्मान है तेरा

 

तू बाबुल  तू पिता है

तू  ही मेरा विधाता है

तू सृजन हार परमात्मा

पर मैं हूँ तेरी आत्मा।

– vandana mishra

Say something
No votes yet.
Please wait...