हमसाया

Home » हमसाया

हमसाया

By |2016-07-17T20:43:20+00:00June 4th, 2016|Categories: कविता|0 Comments

तू कर ले कोशिश जो दूर जाने की
पास आने की राह ढूंढ जाऊँगी

तू अगर धागों को तोड़ना चाहे
मैं रिश्तों की मोती पिरों जाऊँगी

कभी थोड़ी स्याह जो लगी जिन्दगी
मैं रंगों से झोली को भर जाऊँगी

जो तु अगर हो गया नीम तो
मैं बनके मिशरी पिघल जाऊँगी

तू जो मुझे चाहे है भूलना
सासों कि रवानगी मैं बन जाऊँगी

अगर दुःख के बादल आये तेरे गाँव
मैं ठंडी पुरवाई संग लाऊँगी

तू जो अगर मुझसे दूर हो गया तो
मैं टूट कर फिर बिखर जाऊँगी

मैं बनके साया हूँ लिपटी हुयी
तुझसे जुदा मैं न हो पाऊँगी।

लेखक / लेखिका – डॉ. वंदना मिश्रा

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment