रोना हँसना
बोलना
आहट्
आवाज
कान में
घंटी सुनाई दे
कराहना
जोर से बोलो
या
फिर धीरे से पूछना
गुस्से में खड़ी बोली
अथवा
किन्नर के गाने
बरेदी की हल्कार
बेटी
की विदाई की
सिस्कन
डमरू का
नाद
वीणा की
झन्कार
शिव के ताण्डव
शहनाई की
गूंज
हिंदी है.

अनिल कुमार सोनी पत्रकार
पाटन जबलपुर

No votes yet.
Please wait...