दफन करने कोई आए मुझे …

दफन करने कोई आए मुझे मतलब की मिट्टी में
गैरों को इजाजत है, अपनों को इजाजत है।
कि उसके बिन मैं इक पल भी अब तो जी नहीं सकता
ये सांसे भी अदावत हैं, धड़कन भी अदावत है।
इक अरसे से बन्दी हॅूं, यहाॅं अपनो की बस्ती में
गर छूटा सियासत है, रहूॅं कैदी सियासत है।
बड़े देखे हैं खैराती, मेरे हम दर्द बनते हैं
जख्म अब और गहराता है, मरहम की नजाकत है।
न जाने कौनसी ताकत है, दौलत की नुमाइश में
तवायफ का भरे बाजार मुजरा भी शराफत है।
भूखे पेट जइफों के, फटे कपड़े जले तलवे
गरीबी लड़की है वो जो रइसों की अमानत है।
बन्दे हैं खुदा के सब न जाने क्यों ये साजिश है।
जाहिल को भी लानत है, समझदारों को लानत है।
मैं सूफी हॅूं, तू मेरे इल्म की सरहद को क्या जानें
काफिर से मोहब्बत है, नमाजी से मोहब्बत है।
— बिहारीलाल

रोमन अक्षरों में ( In Roman )…

dafan karne koi aaye mujhe matlab ki mitti mein,
gairon ko izazat hai, apnon ko izazat hai.
ki uske bin main ik pal bhi ab wo ji nahi sakta.
ye saanse bhi adawat hain, dhadkan bhi adawat hai.
ik arse se bandi hun, yahan apno ki basti mein.
gar chhut gya sisaysat hai, rahun kaidi siyasat hai.
bade dekhe hain khairati, mere hum dard bante hain.
zakhm ab aur gahrata hai, marham ki nazakat hai.
na jane kaun si taqat hai, daulat ki numaish mein.
twaiaf ka bhare bazar muzra bhi sharafat hai.
bhukhe pet jaifon ke, fate kapde jale talwe.
garibi ladki hai wo jo raison ki amanat hai.
bande hain khuda ke sab na jane kyon ye sajish hai.
jahil ko bhi lanat hai, samajhdaron ko bhi lanat hai.
main sufi hun, tu mere ilm ki sarhad ko kya janen.
kafir se mohabbat hai,namaji se mohabbat hai.

— Biharilal

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu