हवाएं सब बताती हैं

मेरे बारें में जो कोई तेरी अल्फाज आती है,
हवाएं पास आ करके हवाएं सब बताती हैं।
महकता शाम है मेरा, चहकती सुबह आती हैं,
हवाएं पास आ करके हवाएं सब बताती हैं।
चुनावी साजिशें आयीं, चुनावी रंजिशें निकलीं
चुनावी दौर में मुझको , हवाएं सब बताती हैं।
नहीं उड़ता बिखरता हूं , नहीं मैं टूटता जुड़कर ,
तेरा यूँ तोड़ना जुड़ना , हवाएं सब बताती हैं।
शहर में आज फैला है सियासी दौर लोगो का,
सियासत की रियासत हैं ,हवाएं सब बताती हैं।
कोई कहता फिजा मेरी कोई कहता हवा मेरी ,
ये इसका है न उसका है, हवाएं सब बताती हैं।
सियासत की बिमारी देख रोता आज है ‘एहसास ‘
नहीं इसकी दवाई है, हवाएं सब बताती हैं।
— अजय एहसास

रोमन अक्षरों में ( In Roman ) …

hawayen sab batati hain

mere bare mein jo koi teri alfaz aati hai,
hawayen pas aa karke hawayen sab batati hain.
mahakta shaam hai mera, chahakati subah aati hain,
hawayen pas aa karke hawayen sab batati hain.
chunavi sajishen aayin, chunavi ranjishen nikalin.
chunavi daur mein mujhko, hawayen sab batati hain.
nahi udata bikharta hun, nahi main tutta judkar,
tera yun todna judna, hawayen sab batati hain.
shehar mein aaj faila hai siyasi daur logon ka,
siyasat ki riyasat hain, hawayen sab batati hain.
koi kahta fiza meri koi kahta hwa meri,
ye iska hai na uska hai, hawayen sab batati hain.
siyasat ki bimari dekh rota aaj hai ‘ehsaas’
nahi iski dawayi hai,, hawayen sab batati hain.

— Ajay Ehsas

No votes yet.
Please wait...

This Post Has One Comment

  1. सुंदर रचना

    No votes yet.
    Please wait...

Leave a Reply

Close Menu