दर्द ज़िंदगी के बहुतेरे उनकी …

दर्द ज़िंदगी के बहुतेरे उनकी मीत दवाई लिख।
मजलूमी भार हुईअब इसकी कहाँ सुनाई लिख।।

चकाचौंध हेरम्बी लकदक फर्श अर्श से बात करे
आज कंगूरों की पौ बारह उनकी स्याह कमाई लिख।।

सत्य कभी न मरते देखा और झूठ के पैर नहीं
पाप पुण्य अंकेक्षण करके सत की पाई पाई लिख।

जीव अंश उस परमतत्व का जड़ जंगम चेतन उससे
सुख में दुख में हारजीत में ईश्वर सदा सहायी लिख।।

अपने दुख गाफिल तू है रोया बहुत लिखा तूने
तदानुभूति को समझ प्रखर अब तो पीर परायी लिख।।

— डॉ रघुनन्दन  प्रसाद दीक्षित ‘प्रखर’

रोमन अक्षरों में ( In Roman ) …

Dard zindagi ke bahutere unki …

Dard zindagi ke bahutere unki meet dawayi likh,
majlumi bhaar hui ab iski kahan sunayi likh.

chakachaundh herambi lakdak farsh arsh se baat karen,
aaj kanguron ki pau barah unki syah kamayi likh.

satya kabhi na marte dekha aur jhuth ke pair nahi,
paap punya ankekshan karke sat ki payi payi likh.

jiv ansh us paramtatva ka jad jangam chetan usse,
sukh mein dukh mein haar-jeet mein ishwar sada sahayi likh.

apne dukh gafil tu hai roya bahut likha tune,
tadanubhuti ko samajh prakhar ab to peer parayi likh.

— Dr. Raghunandan Prasad Dixit’ Prakhar’

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu