बाॅस की बेटी का जन्मदिन था ।बाॅस ने अपने अधीनस्थ कर्मचारियों को आमंत्रित किया था ।जन्म दिन पे बधाई देने से ज्यादा इस बात की होड़ लगी थी कि कौन कैसा गिफ्ट देता है ।
तिवारी जी पेशोपेश में पड़ गये ।आर्थिक तंगी की वजह से मंहगा तोहफ़ा दे पाना तो संभव नहीं था और सस्ता तोहफा कहीं उपहास का विषय न बन जाय।फिर पत्नी से विचार – विमर्श किया और चल पड़े – बर्थ डे पार्टी में ।
पिंकी हर गिफ्ट को खोल खोल कर देखने लगी ।मंहगी गिफ्ट पे तालियाँ बजती और बाॅस की नजर में उनका रूतबा बढ़ जाता ।सस्ता तोहफा देखते ही बाॅस मोबाइल पे बिजी हो जाते ।पर पिंकी को सबसे अच्छा तोहफा लगा  — तिवारी अंकल का पेन एवं डायरी के साथ स्नेहपूर्ण भाव से  लिखी चार पंक्तियाँ भी थ्री  —— “पिंकी के उज्ज्वल भविष्य के लिए ।” बाकी सारे तोहफे पे  तो  सिर्फ गिफ्ट कार्ड ही चिपके थे ।

— सेवा सदन प्रसाद 

 

In Roman

TOHFA

Boss ki beti ka janam din tha. Boss ne apne adhinasth karmcharion ko aamantrit kiya tha.janmdin pe badhai

dene se jyada is baat pe hod lagi thi ki koun kaisa gift deta hai. Tiwari ji peso pes me pad gaye. Aarthik tangi ki

wajah se mahanga tohfa de pana to sambhaw nahi tha aur sasta tohfa kahin uphas ka visay nahi ban jay. Fir

patni vichar-vimarsh kiya aur chal pade birthday party main .

Pinki har gift ko khol khol kar dekhne lagi. Mahangi gift pe taliyan bajti aur boss ki nazar me

uska rutba badh jata. Sasta tohfa dekhte hi boss mobile pe busy ho jate. Par Pinki ko jo sabse acha tohfa laga – :

Tiwari uncle ka pen evem dairy k sath snehpurn bhaw se likhi char panktiyan bhi thi – “ Pinki ke ujawal

bhawisya k liye.” Baki sare pe to sirf gift card hi lage the.

—  Sewa Sadan Prasad

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...