ज़िन्दगी  में एक उम्र वो भी आई कि मेरा दिल  फूलों पर आने लगा । बहुत समझाया , मनाया। हर दूसरी बातों में उलझाया.. । मगर माना ही नही ! खैर ! एक दिन मैं रह न सकी और उसे , मनचाहे से एक फूल को , ले ही आई । और सज गया दिल का गुलदान ! खूब पानी और सारा का सारा वक़्त दिया उसे मैंने अपना । चुट्की भर नमक भी तो चाहिए होता है जीने के खातिर । फिर क्या ? असर दिखने लगा । कमरा खूबसूरत हो गया। चेहरे का नूर बता रहा था कुछ महक रहा है भीतर ! सहेलियां भी पूछने लगी ‘ it’s love, or Dove ?’ मुस्कराहट ही जवाब होती है दुनिया की ईन बे-सर पैर की बातों का । हाहाहाह: वक़्त निकला । गुऱदान का फूल मुरझाने लगा था । शायद मैं भी उकताने लगी थी, एक सी सजावट से । महक दुगंध में बदलते देर नही लगती । मैने उसे दिल से निकाल फ़ेंका ! मगर कहानी का इतना त्राज्दिक एन्ड थोड़े ना होना था ! फिर  ? आखिर दिल का गुलदान है ! और गुलशन में गुलों का अकाल तो पडा नहीं  था ना ! 🙂 धीरे धीरे आदत सी हो चली थी । ज़िन्दगी का शायद यही उसूल है । कोई गुऱदान किसी एक गुल को ज्यादा दिनों तक ताजा नहीं रख पाता। हर बार कुछ बेहतर, कुछ रंगीन, कुछ जुदा सी अदा लिए कोई न कोई फूल महकाता रहा मेरे अन्दतरमन को । और सबसे मजे की बात ! कि ये बात न मेरी जुबान को पता थी, न ही मेरे कानों को इसकी खबर थी। यहाीं तक कि मेरे शातिर दिमाग को भी भनक नहीं लगी । — इस बार गुलदान काफ़ी समय से खाली पडा था । मैंने उसे किसी कोने में पटक दिया था । जीवन में करने को आखिर हजार और भी तो काम होते हैं . पता नहीं कब कहीं से और क्यों एक साधारण सा कुछ मैंने उस गुलदान में यों ही डाल दिया था । खाली तो क्या रखती ? कुछ खास तो क्या बिलकुल भी तमिरदारी नहीं की गयी थी उसकी । अकसर उपेक्षित सा ही पडा रहता था। वैसे भी ज़िन्दगी अजीब सी उहापोह में, ऊँची – नीची  राहों से गुजर रही थी। और मुझे इन सब बेफ़ालतू के खेल के लिए न वक़्त था ना ही मेरा मन ! —
समय की भी अपनी ही चाल है ! जब ज़िन्दगी कुछ संभलने लगी थी मैनें गुलदान को सम्भाला। और ये क्या !! वह साधारण सा ‘कुछ ‘ कुछ नायाब सा ही, इस दुनियाँ से बिलकुल  जुदा मगर प्यारा सा कोमल सा सुमन निकला । और तो और इस उपेक्षित  काल में उसने सारे फ़ूलदान में अपनी जडें फ़ैला दी थी । उसकी पत्तियाँ, कलियाँ, खिलते हुए फ़ूल मेरे जहन , दिमाग, कान,नाक तक फ़ैल चुके थे । उसकी जब तब मुरझाती पंखुड़ियाँ सड़ती नहीं थी, खाद का काम करती थी । जो मेरे उसके भावनाओ को और पल्लवित कर रही थी ! मैंने ध्यान दिया कि उसकी जडें अब मेरी जडें हो गईं थी । उन्हें काटना खुद के वजूद को मिटाने जैसा था । बडी कस्मकश थी कि एक दिन उसका नाम मेरी जुबान पर आ ही गया !

— कविता मुखर 

In Roman …

Zindgi me ek umra wo bhi aai ki mera dil fulon par aane laga. Bahut samjhaya , manaya. Har dusri baat me uljhaya… magar mana hi nahi! Khair !  ek main rah na saki aur use , manchahe se ek ful ko, le hi aayi. Aur saj gaya dil ka guldan ! khub pani aur sara ka sara waqt diya use maine apna. Chutki bhar namak bhi to chahiye hota hai jine k khatir . fir kya? Asar dikhne laga. Kamra khubsurat ho gaya. Chehra ka nor bata raha tha kuch mahak raha hai bhitar ! saheliyan bhi puchne lagi ‘ its love , or dove?’ muskurahat hi jawab hoti hai duniyan ki in be-sar pair ki baton ka. Hahaha: waqut nikla. Gurdan ka ful murjhane laga tha. Sayad main bhi uktane lagi thi, ek si sajawat se. mahak du gandh me badalte der nahi lagti. Maine use dil se nikal fenka! Magar kahani ka itna tresjitic end thode na hona tha! Fir? Aakhir dil ka guldan hai! Aur gulsan me gulon ka aakal to pada nahi ta na! dhire dhire aadat si ho chali thi. Zindgi ka sayad yahi wasool hai. Koi gurdan kisi ek gul ko jyada din tak taza nahi rakh pata. Har bar kuch behtar , kuch rangin, kuch juda si adda liye kkoi na koi ful mahakata raha mere andtarnam  ko. Aur sab se maje ki baat! Ki ye baat na to mere juban ko pata thi na hi mere kano ko iski khabar thi. Yahan tak kki mere satir dimag ko bhanak nahi lagi. Is baar guldan kafi samay se khali pada tha. Maine use kisi kone me patak diya tha. Jiwan me karne ko aakhir hazar aur bhi to kaam hote hain. Pata nahi kab kahin se aur kyon ek sadharan sa kuch maine us guldanme yon hi dal diya tha. Khali to kya rakkhti ? kuch khas to kya bilkul bhi tmir dari nahi ki gayi thi uski. Aksar upekshit sa hi para rahta tha. Waise bhi zindgi ajib se uha poh me , unchi-nichi rahon se gujar rahi thi. Aur mujhe in sab befaltu k khel k liye na waqt tha na hi mera man! Samay ki bhi apni hi chal hai! Jab zindgi kuch sambhalne lagi thi maine guldan ko sambhala. Aur ye kya!! Wah sadharan sa ‘kuch’ kuch nayab sa hi, is duniya se bilkul juda magar pyara sa kkomal sa suman nikla. Aur to aur is upekchit kal me usne sare fuldan me apni jaden faila di thi. Uski patiyan, kaliyan, khilte hue ful mere jehan, dimag , kan , naak tak fail chuke the. Uski jab tab murjhati pankhudiyan sadti nahi thi, khad ka kaam karti thi. Jo mere uske bhawnawon ko aur palwit karti thi. Maine dhayan diya ki uski jad ab meri jad ho gayi thi. Unhe katna khud k wajud mitane jaisa ho gaya tha. Badi kas makas thi ki ek din uska naam meri juban pe aa hi gaya!

— Kavita Mukhar

Say something
No votes yet.
Please wait...