उड़ गई गौरैया

मैं किताब ले कर खिड़की पर आकर बैठी ही थी कि किसी के रोने की आवाज सुन चौक गई । बाहर ये वो ये औरतें भी न ।

दोनों बैठी शायद दुःख सुख बाँट रही थी, जब देखो दुखड़ा लेकर बैठ जाती हैं ।

हुआ क्या? बता तो रो रो कर जी हलकान किये हुए है ! चोंच  भी खोलेगी की नहीं ?

अब क्या बताऊँ बहना, आज की बात तो  है नहीं, कहानी लम्बी है –

बहार छाई थी, शहर … फूलों की वादी हो गया था और चाहत का मौसम शवाब पर था उसने  मुझे  इतने  प्यार से देखे की मैं दिल हार बैठी।

उनकी बातें  मुझे अच्छी लग रही थी कि किताब बन्द कर … कॉफी ले आई और कान लगा कर बैठ गई सुनने उनकी राम कहानी आगे

फिर तो जैसे जिन्दगी जन्नत  हो गई, धरती पर … हम दोनों  खुश थे … पांव ही नहीं पडते थे सारा … बसा चहकते ही .. सारा दिन आकाश नापते फिरते थे … ईश्वर का आशीर्वाद था कि मेरे पैर भारी हुए … हमारी खुशियों  के पर निकल आये

अब तक की कहानी सुन मेरे होंठों  पर मुस्कान तैरने लगी … कितनी रूमानी थी न ।

अब घरौंदा के लिए हमने अच्छी से जगह देखना शुरू किया , दिन दिन भर मेहनत  … इधर देखा पेड़ जो अब कम हैं, उतने हरे भरे भी नहीं हैं. जो थोड़ी शाखाएं दिखती हैं वो भी धुप, आँधी और  दुश्मनों की निगाह से सुरक्षित नहीं हैं।

मुझे बहुत गुस्सा आया हम मानवों पर न खुद सुरक्षित रहेंगे  न पर्यावरण को ही रहने देंगे और इन मासूम बेजुबानों की तो कोई सोचता ही नहीं ।

खैर हमने एक जगह ढूंढ  ही ली इस घर के ए. सी. के डब्बे के पीछे घोसला बनाना शुरू किया ।

मेरा दिल धड़का …

पर हर तीन चार दिन में सारे तिनके बिखरे मिलते, कोई सहारा ही नहीं था | वहाँ ठीक से पर चिड़ा है न बड़ा | बड़े करीने से किसी तरह घोसला बना लिया| घोसला बना ही था कि फिर बिखरा मिला मैंने एक दिन देखा | इस घर में रहने  वाली ही ने  बनने से पहले उजाड़ दिया था मेरा घर| मैंने  कितनी कोशिश की उड़ उड़ कर उसके आस पास कि उसे कुछ समझ आए, कुछ दया ही आए | मगर जैसे वो अंधी ही थी |

इधर मेरे दिन पुरे हो रहे थे अब तक मुझे  जैसे लकवा मार गया था, मेरे चेहरे पर हवाइयाँ उड़ रही थी …

कुछ चिंता की वजह से, कुछ मौसम के बदलाव से मैंने अंडे समय से पहले ही दे दिए वहीं ए. सी. के पीछे दिए, क्या करती ? और र्काइे चारा भी तो न था! बहुत प्रार्थना की थी मैंने

प्रभु से हमारी और इन अजन्मे मासूमो की रक्षा के लिए मगर कल रात आई आँधी  में उजड़ गया मेरा घरोंदा ।

पर मैंने तो देखा है इसे फेसबुक पर चिड़िया बचाओ, गौरैया बचाओ के पोस्ट डालते हुए और  बहुत से ‘ लाइक्स ‘ एवं ‘कमेंट्स’ लेते देते हुए ऐसा  कैसे  कर सकती है ?

हाँ, इसने  घर के बाहर परिंदा भी बांधा, रोज दाना पानी भी देती है … पर घोसला भी तो चाहिए न | हमारे लिए न सही, कम से कम चूजों के बारे में तो सोचती … सिर्फ फेसबुक पर अभियान चलाने से तो कुछ नहीं होगा न।

मेरे कान फाटे जा रहे थे | आँसू की अविरल धरा बही जा रही थी | मैं  घोर दोष में दबी जा रही थी … की करती! अब तो मेरे हाथों  से तोंते  ही नहीं गौरैया भी उड़ चुकी थी ….

— कविता मुखर 

In Roman …

Ud Gayi Goraiya

 

Main kitab lekar khirki pe baithi hi thi ki kisi k rone ki aawaj sun kar chouk gayi. Bahar ye wo ye auraten hi na.

Dono baithe sayad dukh sukh baant rahi thi, jab dekho dukhra lekar baith jati hai.

Hua kya bata to ro ro k ji halkan kiye hue hain! Chonch bhi kholegi ki nahi?

Ab kya batau bahana, aaj ki baat to hai nahi kahani lambi hai –

Bahar chhai thi, sahar…. Fulon ki wadi ho gaya tha aur chahat ka mausam sabaab per tha usne mujhe itna pyar se dekhe ki main dil har baithi.

Unki baaten mujhe achhi lag rahi thi ki kitab band kar … coffee le aayi aur kaan lagakar baith gayi sunne unki ram kahani aaage.

Fir to zindgi jaise jannat ho gayi, dharti per….  hum dono khus the… pawn hi nahi parte the sara… basa chahakte hi… sara din aakas napte firte the … ishwar ka aashirwad tha ki mere pair bhari hue… humari khusiyon k par nikal aaye

Ab tak ki kahani sun mere hothon par muskan tairne lagi… kitni rumani thi na.

Ab gharonda k liye humne achhi si jagah dekhna suru kiya, din din bhar mehnat… idhar delha ped jo ab kam hain utne hare bhare bhi nahi hain. Jo thodi sakhayen dikhti hai wo bhi dhup aandhi aur  dusmano ki nigah se surakshit nahi hain .

Mujhe bahut gussa aaya hum manawon par na khud surakchit rahenge na paryawaran ko surakchit rahne denge aur in masum bejubano ki to koi sochta hi nahhi hai.

Khair humne ek jagah dhundh hi li is ghar k A/C k dabbe k piche ghosla banana suru kiya.

Mera dil dharka…..

Par har tin char din me sare tinke bikhre milte, koi sahara hi nahi tha. Waha thik se par chida hai na bada. Bade karine se kisi tarah ghosla bana liya. Ghosla bana hi ttha ki fir bikhra mila maine ek din dekha. Is ghar me rahne wali hi ne banne se pahle ujad diya tha mera ghar. Maine kitni kosis ki ud ud kar uske aas pass ki use kuch  samajh aae, kuch daya hi aaye. Magar jaise wo andhi hi thi.

Idhar mere din pure ho rahe the ab tak mujhe jaise lakwa maar gaya tha, mere chehre par hawaiyan ud rahi thi…

Kuch chinta ki wajah se, kuch mausam k badlaw se maine ande samay se pahle hi de diye wahin A/C k piche diye, kya karti aur koi chara bhi to na tha! Bahut prarthana ki thi maine

Prabhu se humari aur in ajanme masumo ki raksha k liye magar  kal raaat aayi aandhi me ujad gaya mera gharondha.

Par maine to dekha hai ise facebook par chidiya bachao, goraiya bachao k post dalte hue aur bahut se likes evam comments lete dete hue aisa kaise kar sakti ha?

HAAN, isne ghar k bahar parinda bhi bandha , roj dana panibhi deti hai… par ghosle bhi to chaiye na. humre liye na sahi kam se kam chuja k bare me sochti…. Sirf facebook pe abhiyan chalane se kuch nahi hhoga na.

Mere kaan fate ja rahe the. Aanshu ki aviral dhara bahi ja rahi thi. Main ghor dos me dabi ja rahi thi… ki karti! Ab to mere hath se tote hi nahi goraiya bhi ud chuki thi….

– – Kavita Mukhar

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu