अ और ब दोनों पति पत्नी हैं ।अ जब देखो तब ब को प्रताड़ित करता रहता है ।कभी कभी जरा सी बात पर ब पर हाथ भी उठा देता है ।ब अपने बच्चों के लिए खामोश रहती है ।शायद वह बच्चों को खराब घरेलू माहौल नहीं देना चाहती ।मगर अ इसे उसकी लाचारी या कमजोरी समझ मन ही मन अपने पुरुषत्व पर गर्व करता है ।एक बार अ और ब किसी शादी समारोह से लौट रहे थे ।रास्ते में कुछ गुंडों ने उन्हें घेर लिया ।अ डर के मारे उन गुंडों के सामने गिडगिडाने लगा और गुंडों को अपने करीब आते देख ब के पीछे छिप गया ।ब ने चालाकी से अपनी साडी के पल्लू में से मोबाइल में लगा इमरजेंसी अलार्म शुरू कर दिया ।अचानक तेज आवाज में बजती पुलिस सायरन की आवाज से गुंडे डर गए और भाग निकले ।गुंडों के जाने के अ जो अब तलक ब के पीछे छिपा हुआ था ।बाहर निकलकर आया और दोनों वापस घर की ओर लौटने लगे ।घर आकार अ बार बार अपने गाल को सहला रहा था ।शायद किसी अदृश्य तमाचे की चोट उसके चेहरे पर बार – बार उभर कर आ रही थी ।

— सपना मांगलिक

A aur b dono pati patni hain. A jab dekho b ko pratarit karta rahta hai. Kabhi kabhi  jara si baat par b par hath bhi utha deta tha. B apne bachhon ke liye khamos rahti hai. Sayad wah bachhon ko gharellu mahol nahi dena chahti. Magar a ise uski lachari ya kamjori samajh man hi man apne purustwa par garwa karta hai. Ek baar a aur b kiisi shadi samaroh se lout rahe the. Raste me kuch gundon ne gher liya. A dar k mare un gundon k samne gid gidane laga aur gundon  ko apne karib aate dekh  ke piche chip gaya. B ne chalaki se apni saadi k pallu me se mobile me emergency alarm suru kar diya. Achanaak tez aawaj me bajti police sayran ki aawaj se gunde dar gaye aur bhag gaye aur bhag nikle . gundon ke jane a jo ab talak b ke piche chipa hua tha. Bahar nikalkar aaya aur dono  wapas ghar ki aur loutne lage. Ghar aakar a bar bar gal ko sahla raha tha. Sayad kisi adrishya tamache ki chout uske chehre par bar bar ubhar kar aa rahi thi.

— Sapna Manglik

 

 

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *