माँ को भजन गाने का बड़ा शौक था वह संगीत सीखना चाहती थीं ,मगर तीन बेटों की परवरिश उनके लिए उनके शौक से ज्यादा महत्त्वपूर्ण थी ।गृहस्थी में उनका शौक मन से कब विलुप्त हो गया इसका खुद उन्हें भी अंदाजा न था ।तीनों बेटे उच्च नौकरी करते हुए अपने अपने गृहस्थ जीवन में रम गए ।पिताजी के जाने के बाद माँ अपने बच्चों की गृहस्थी में ही अपनी ख़ुशी ढूँढने लगी ।मगर बड़ी बहु को माँ का उसकी गृहस्थी में दखल न भाया और वह अलग हो गयी ।मंझली की गृहस्थी  में खुद उसकी माँ शामिल थी इसलिए माँ को वहां जगह मिलना मुमकिन ही नहीं था ।रही बात छोटी की तो उसने माँ के आने की खबर सुनते ही अपने पति को फरमान सुना दिया कि या तो घर में माँ रहेगी या वह ।तीनों भाइयों ने अपनी – अपनी गृहस्थी और सुविधानुसार एक निश्चय किया और अगले ही दिन माँ को वृद्धाश्रम छोड़ आये ।माँ के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे और वह आश्रम के मन्दिर में दीनबंधु से करूण भजन गा प्रार्थना करने लगी कि -उसका दुनिया में कोई नहीं है, हे प्रभु अब तो उसे उठा ले ।भजन खत्म होने के बाद माँ ने पीछे मुड़कर देखा ।उसकी ही तरह कई गृहस्थी विहीन गृहस्थ एक जैसा दर्द आँखों में लिए उसे अपनी इस विशाल गृहस्थी में शामिल करने को आतुर दिखे ।

–सपना मांगलिक

In Roman

 

Maa aur Grihasthi

Maa ko bhajan gane ka bada sokh tha wah sangit sikhna chahti thi, magar tiin beton ki parwaris unke liye unke souk se jyada mahatwa purn thi.grihsti me unka man soukh se kab vilupt ho gaya iska unhe bhi khud andaja nahi tha. Tino bête uche naukri karte hue apne pane gristh jiwan me ram gaye. Pita ji k jane ke baad maa Apne bachhon ki grihasthi me hi apni khushi dhundhne lagil. Magar badi bahu ko maa ka uski grihasti me dakhal na bhaya aur wah alag ho gayi. Manjhli gristhi me khud uski  maa samil thi  isliye maa ko waha jagah milna mumkin hi nahi tha. Rahi baat choti ki to usne maa k aane ki khabar sunte hi apne pati ko farman suna diya ki ya to maa rahegi ya wah. Tino bhaiyon ne apni apni grihasthi aur subidha anusar ek nischay kiya aur agle hi din maa ko bridhaaashram chod aaye. Maa ke aashu thamne ka naam nahi le raha the aur wah ashram k mandir me dinbandhu se karun bhajan ga  prarthna karne lagi ki- uska duniya me koi nahi hai, hey prabhu ab to use utha le. Bhajan khatam hone k baad maa ne piche mud k  dekha. Uski hi taraah grihasthi vihin grihasth ek jaisa dard aankho me liye use apni is vishal grihasthi me samil karne ko aatur dikhe.

— Sapna Manglik

Say something
No votes yet.
Please wait...