मलखान साम्यवाद पार्टी के जिला अध्यक्ष का पुत्र था ।आती जाती युवतियों को छेड़ना भद्दे इशारे करना और उनका पीछा करना उसके प्रमुख शगल थे ।इस बार उसकी नजर नाबालिंग सुमन पर थी वह उसके सुन्दर चेहरे और भोलेपन का दीवाना हो चुका था ।और जहाँ भी वह जाती, मलखान साये की तरह उसके पीछे – पीछे अपने प्रेम का इज़हार करते पहुँच जाता ।सुमन और उसके घरवालों ने पहले तो उसे समझाने का प्रयास किया मगर मलखान कहाँ मानने वाला था वह तो उसे पाने की जिद लिए जो बैठा था ।एक दिन जब स्कूल जाते समय मलखान सुमन के पीछे पीछे चलने लगा तो सुमन ने पलटकर उसे थप्पड़ जड दिया ।मलखान उसे धमकी देते हुए वहां से चला गया ।दूसरे दिन मलखान ने बीच सड़क पर उसे रोकते हुए कहा “सुमन मैंने तुझे सच्चा प्रेम किया था ।अब सुन ले  तू मेरी होगी नहीं ,किसी और के लायक मैं तुझे छोड़ूगा  नहीं “कहते हुए उसने हाथ में छिपाई एसिड की बोतल उसके चेहरे पर फैंक दी ।सुमन का चेहरा बुरी तरह से झुलस गया था ।महीनों बाद अस्पताल से सुमन लौटी तो अपने सुन्दर सुकोमल चेहरे के बजाय एक डरावना चेहरा लेकर ।और आते ही सबसे पहले मलखान के पास गयी ,और बोली “मलखान आज मैं तुम्हारे प्रेम को समझ चुकी हूँ ,आओ हम एक हो जाएँ ” ।मलखान घबराते हुए “पागल हो क्या ?अपना चेहरा तो देखो ,जब मैं कह रहा था तो ।।।” ।सुमन “मलखान तुम मेरे नहीं हुए तो किसी और के भी नहीं होंगे आज मैं अपने सच्चे प्रेम की छाप तुम पर जरूर छोड़ कर जाउंगी “और सुमन ने भी ठीक मलखान की तरह एसिड की बोतल में बंद “प्रेम “मलखान पर उडेंल दिया ।

— सपना मांगलिक 

In Roman …

Malkhan samyawad party ke jila adhayak ka putra tha. Aati jati yuwatiyon ko chedna bhhade ishara karna aur unka picha karna uske pramukh salag the. Is baar uski nazar nabalig suman par thi wah uske sundar chehre aur bholapan ka diwana ho chukka tha. Aur jahan bhi wah jati , malkhan saye ki tarah uske piche piche apne prem ka izahar karte pahuch jata. Suman aur uske gharwale ne pahle to usko samjhane ka prayas kiya magar malkhan kaha manne wala tha wah to usko pane ki zidd liye jo baitha tha. Ek din jab school jate samay malkhan Suman k piche piche chalne laga to suman ne palat kar use thappad jadd diya. Malkhan use dhamki dete  hue waha se chala gaya. Dusre din malkhan ne bich sadak par use rokte hue kaha “ SUMAN maine tujhe sachha prem kiya tha. Ab sun le tu meri hogi nahi, kisi aur k layak main tumhe chodunga nahi “ kahte hue apne hath me chipayi acid ki botal uske chehre par fek di. Suman ka chehra buri tarah se jhulas gaya tha. Mahino baad aspatal se suman louti to apne sundar komal chehre k bajay ek darawna chehra le kar. Aur aate hi sabse pahle malkhann k pass gayi aur boli “ Malkhan aaj main tumhare prem ko samajh chuki hun, aao hum ek ho jayen” . malkhan ghabrate hue “ pagal ho kya? Apna chehra to dekho , jab main kah raha tha to..” suman : malkhan tum mere nahi hue to kisi aur k bhi nahi hoge aaj main sachhe prem ki chhap tum par jarur chod kar jaungi “ aur suman ne bhi thik malkhan ki tarah acid ki botal me band “ prem” malkhan par udel diya.

— Sapna Manglik

Say something
No votes yet.
Please wait...