मनोरंजन

Home » मनोरंजन

मनोरंजन

By |2016-10-05T21:42:42+00:00September 4th, 2016|Categories: लघुकथा|Tags: |0 Comments

आशा को लेखन का बेहद शौक था ।या यूँ कहें कि लेखन द्वारा वह अपने दिल के हर दर्द को कागज़ पर उतार अपनी व्यस्त भागदौड़ और घुटन भरी जिन्दगी में कुछ पल सुकून के जी लेती थी । मगर उसके पति मनोज और सासू माँ को उसका लेखन कलम घिसाई और टाइम की बर्बादी लगता ।वह दोनों जब तब उसके लेखन पर व्यंग्य बाण छोड़ते और लेखन को ठलुओं का काम कहकर सबके सामने उसका मजाक उड़ाते ।उस वक्त आशा की आँखों से बेबसी और अपमान के आंसू निकल पढ़ते थे ।एक दिन एक साहित्यिक कार्यक्रम में आशा को विशिष्ट अतिथि के रूप में बुलाया गया तो वह मना न कर सकी और कुछ देर के लिए कार्यक्रम में चली गयी ।मगर जब घर लौटी तो सासू माँ ने दरवाजे से ही अपशब्दों की बौछार करना शुरू कर दिया ।इस अपमान से दुखी हो आशा अपने कमरे में आंसू पोंछती जब पहुंची तो उसका पति फोन पर उसके पिताजी को धमकी दे रहा था कि आशा ने यह लेखनबाजी नहीं छोड़ी तो वह उसे छोड़ देगा ।घर के बाहर पराये पुरुषों के साथ बैठकें करने वाली आवारा औरतों की उसे कोई जरूरत नहीं है ।आशा तड़प कर बोली “मनोज मैं घर के सारे कार्य निपटा कर अगर कुछ देर अपना मनोरंजन कर आई तो इसमें क्या गलत है ?”मनोज लगभग चीखते हुए बोला “तुम्हारा मनोरंजन और मनोरंजन करने वालों को मैं खूब समझता हूँ उन्हह ” । रोज रोज के अपमान से तंग आकर आशा ने घर से बाहर निकलना ही बंद कर दिया ।मनोज को गुनगुनाते हुए अटेची पैक करते देख आशा ने उसे सवालिया नजरों से देखा तो मनोज बोला “अरे मैं तुम्हे बताना भूल गया हमारे क्लब के सभी पुरुष थाईलेंड ट्रिप पर जा रहे हैं “आशा ने पूछा  ” औरतें नहीं जा रहीं ?” मनोज “पागल हो वहां औरतों का क्या काम ” आशा ने हैरानी से पूछा “फिर मर्दों का वहां कौनसा जरूरी काम है ” मनोज आँख मारते हुए “मनोरंजन नहीं करें अपना ,बस तुम बीवियों से ही चिपके रहे “।

— सपना मांगलिक 

In Roman …

Aasha ko lekhan ka bahut sokh tha. Ya yun kahen lekhan dwara wah apne dil ka har dard ko kagaj par utar apni wayast bhagdoud aur ghutan bhari zindgi me kuch pal sukun k ji leti thi. Magar uske pati Manoj aur sasu maa ko uska lekhan kalam ghisai aur time ka barbadi lagta. Wah dono uske lekhan par jab tab wayang baan chorte aur lekhan ko thaluon ka kaam kah kar sab k samne uska mazak udate. Us waqta Aasha k aankhon se  bebasi aur apman k aansu nikal parte the. Ek din ek sahityik karyakram me Aasha ko wisit aatithi k rup me bulaya gaya to wah mana nahi kar saki aur kuch der k liye karyakram me chakli gayi. Magar jab ghar louti to sasu maa ne darwaje se hi apsabdon ka bouchar karna suru kar diya. Is apman se dukhi ho Aasha apne kamre me aansoo pochte jab pahuchi to uska pati phone par uske pita ji ko dhamki de raha tha ki Asha ne yah lekhanbaji nahi chhodi to wah use chod dega. Ghar k bahar paraye puruson k sath baithaken karne wali aawara auraaton ki use koi jarurat nahi. Asha tarap kar boli “ manoj main ghar k sare kaam nipta kar agar kuch der apna manoranjan kar aayi to isme kya galat hai?” manoj lagbhag chikhte hue bola “ tumhara manoranjan aur manoranjan karne walon ko main khub samajhta hun unhhh”. Roj roj k apman se tang aakar Asha ne ghar se bahar nikalna hi band kar diya. Manoj ko gungunate hue ataichi pack karte dekha Asha ne use sawaliya nazron se dekha to manoj bola “ are main tumhe batana bhul gaya humare club k sare purus Thailand trip par ja rahe hain”. Asha ne pucha “ auraten nahi ja rahin?” manoj “ pagal ho wahan auraton ka kya kaam” Asha ne hairani se pucha “ fir mardon ko waha koun sa jaruri kaam hai”  manoj aankh marte hue “ manoranjan nahi Karen apna, bas bibiyon se hi chipke rahen”.

— Sapna Manglik

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment