होली

अर्पिता की यह पहली होली थी ।उसने और निखिल ने घरवालों के खिलाफ जाकर प्रेम विवाह किया था ।उनकी शादी में कोई भी अपना शरीक नहीं हुआ और उनका दांपत्य जीवन बड़ों के आशीर्वाद के बिना शुरू हुआ, इसका निखिल से ज्यादा अर्पिता को मलाल था ।मगर विवाह के दो महीने बाद जब रंग –  बिरंगी होली का त्यौहार पास आने लगा तो अर्पिता ने इस होली में सबके गिले शिकवे दूर कर निखिल और उसके परिवार को एक करने की ठानी ।उसके मन में अनेक उमंग उठ रहीं थी कि होली पर मैं यह बनाउंगी वो बनाउंगी और सब मेरी तारीफ करेंगे मुझे आशीर्वाद प्रदान करेंगे ।होली वाले दिन अर्पिता निखिल के साथ ससुराल पहुंची दोनों ने बड़ों के पैर छूकर आशीर्वाद लिया ।माता-पिता बच्चों से कबतक नाराज रहते उन्होंने भी दोनों को माफ़ कर दिया ।घर में खुशियों की खिलखिलाहट गूँज उठी ।तभी निखिल के जीजाजी वहां आये और अर्पिता को रंग लगाने लगे ।अर्पिता भी अपने ससुराल की पहली होली का भरपूर लुत्फ़ उठाते हुए खुद बचते हुए जीजाजी को रंग लगाने की कोशिश करने लगी ।होली की इस धरपकड़ में अचानक एक तमाचे की आवाज सबको सुनाई दी ।जीजाजी अपना गाल सहलाते हुए बडबडा रहे “मैं तो पहले ही कह रहा था यह लड़की सही नहीं है ,दिखा दी न अपनी औकात “उधर अर्पिता रोते हुए तमतमाए चेहरे के साथ  घर से बाहर निकल गई ,आखिर उसकी पहली होली की  मिठास हमेशा – हमेशा के लिए कडवाहट में जो बदल गई थी  ।

— सपना मांगलिक 

In Roman

Arpita ki yah pahli holi thi. Usne aur Nikhil ne  gharwalon ke khilaf jakar prem vivah kiya tha. Unki shadi me koi bhi apna sarik nahi hua aur unka dampatya jiwan badon k aashirwad k bina suru hua, iska Nikhil se jyada arpita ko malal tha. Magar wiwah ke do mahine baad jab rang birangi holi ka tayohar pas aane laga to arpita ne is holi me sab ke gile sikwe dur kar Nikhil aur uske pariwar ko ek karne ko thani. Uske man me anek umang uth rahi thi ki holi par main yah banaungi  wo banaungi aur sab meri tariff karenge mujhe aashirwad pradan karenge. Holi wale din arpita Nikhil k sath sasural pahuchi dono ne badon ka pair choo kar aashirwad liya. Mata pita bachhon se kab tak naraz rahte unhone bhi dono ko maaf kar diya. Ghar me khusiyon ki khilkhilahaat gunj uthi. Tabhi Nikhil k jija ji waha aaye aur arpita ko rang lagane lage. Arpita ne bhi apni sasural ki pahli holi ka luft uthate hue khud bachte hue jijaji ko rang lagane ki kosis karne lagi. Holi ki is dhar pakad me achanak ek tamache ki aawaj sab ko sunai di. Jija ji apna gal sahlate hue badabada rahe “ main to pahle hi kah raha tha yah larki sahi nahi hai, dikha di na apni awkat, “ udhar arpita rote hue tamtamaye chehre ke sath ghar k bahar nikal gayi, aakhir uski pahli holi ki mithas hamesa hamesa k liye kadwahat me jo badal gayi thi.

 

— Sapna Manglik

 

 

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu