सुबिधा का सिद्धांत

अ और ब दोनों पति पत्नी आये दिन झगड़ते रहते थे ।विवाह को लगभग दस वर्ष हो चले थे और दोनों के बीच बातचीत कम होती जा रही थी ,नीरसता और दूरी बढती जा रही थी ।सब कुछ होते हुए भी कुछ नहीं का अहसास उन्हें कचोटता रहता ।अ को मनोविज्ञान की अच्छी जानकारी थी उसने मनोविज्ञान का सुबिधा का सिद्धांत कहीं पढ़ रखा था ।इस सिद्धांत के बारे में सोचते ही उसकी आँखों में चमक आ गयी ।अब अ घर में भी बहुत खुश रहने लगा था ।न जाने कैसे यह स्त्रियाँ पुरुषों के मनोभाव ताड़ लेती हैं ?ब को मनोविज्ञान की रत्ती भर समझ नहीं थी फिर भी उसने अ से सुबिधा का सिद्धांत सीख लिया ।अब ब भी घर में खुश रहने लगी ।आज अ और ब दोनों अपनी महानगरीय जीवन शैली में खुश हैं ।

— सपना मांगलिक 

In Roman …

A aur B dono pati patni aaye din jhagarte rahte the. Vivah ko lagbhag das varsh ho chale the aur dono ke bich baatchit kam hoti ja rahi thi, nirasta aur duri badhti ja rahi thi. Sab kuch hote hue bhi kuch nahi ka ehsas unhe kachotta rahta tha. A ko manovigyan kii bahut achhi jankari thi usne manovigyan ka suvidha ka sidhanta kahi padh rakha tha. Is sidhant k bare me sochte hi uski aankhon me chamak aa gayi. Ab A ghar me bhi bahut khus rahne laga tha. Na jane kaise yah striyan puruson ke manobhaw tad leti hain? B ko manovigyan ka ratti bhar samajh nahi thi fir bhi usne A se subidha ka sidhant sikh liya. Ab B bhi ghar me khus rahne lagi. Aaj A aur B  dono apni mahanagariye ziwan saili me khus  hain.

— Sapna Manglik

 

 

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu