मैं प्रतीक्षा तुम्हारी करूँ आज तक

Home » मैं प्रतीक्षा तुम्हारी करूँ आज तक

मैं प्रतीक्षा तुम्हारी करूँ आज तक

By |2017-07-29T15:50:31+00:00January 29th, 2017|Categories: गीत-ग़ज़ल|5 Comments

मैं प्रतीक्षा तुम्हारी करूँ आज तक

रात्रि से प्रात तक प्रात से साँझ तक

बाबरे  ये  नयन  तांकते  हर  दिशा

नित्य की भाँति क्या आओगी इस निशा

मन में अकुलाहटें प्राण व्याकुल व्यथित

लम्हा हर एक मुझको लगे साल सा

टकटकी बाँधकर देखतीं हैं डगर

पुतलियाँ प्रतीक्षा करें आज तक

रात्रि से प्रात तक प्रात से साँझ तक

मैं प्रतीक्षा तुम्हारी करूँ आज तक

मैं तुम्हे देखकर कुछ भी कह ना सका

धड़कने प्रीत के गीत गाने लगीं

कोई सपना हक़ीक़त हुआ ना कभी

आँख फिर से नयों को सजाने लगीं

आओगी स्वप्न में तुम इसी  वास्ते

नयन नींद की प्रतीक्षा करें आज तक

रात्रि से प्रात तक प्रात से साँझ तक

मैं प्रतीक्षा तुम्हारी करूँ आज तक

प्रेम में सत्यता मेरे होगी अगर

देखना एक दिन आओगी दौड़कर

प्रेम राधा के जैसा भी स्वीकार है

कृष्ण जैसा बना बस यही सोंचकर

बाँसुरी हाँथ लेकर किसी डाल  पर

सुर प्रतीक्षा तुम्हारी करें आज तक

रात्रि से प्रात तक प्रात से साँझ तक

मैं प्रतीक्षा तुम्हारी करूँ आज तक

— विशाल समर्पित

 

Say something
Rating: 4.3/5. From 16 votes. Show votes.
Please wait...

5 Comments

  1. Arpit mishra January 31, 2017 at 11:17 pm

    सुन्दर गीत

    Rating: 5.0/5. From 3 votes. Show votes.
    Please wait...
  2. Shivam mishra February 1, 2017 at 8:56 am

    Antar man ko chhu lene wala geet

    Rating: 5.0/5. From 4 votes. Show votes.
    Please wait...
  3. Vashishth Kumar February 8, 2017 at 12:47 pm

    Nice

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...
  4. Neelu mishra May 2, 2017 at 10:25 pm

    वाह सुपर…

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...
  5. Vikram Srivastava May 22, 2017 at 8:01 pm

    वाह वाह वाह

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link