बारात 

बारात 

भाई यह क्या हुआ

दस लाख का एक हुआ!

बात हुई थी जब बीस लाख की

आधे खर्च करोगे कहा था

अब आप सिर्फ एक लाख कह रहे हो

अपने वादे से मुकर रहे हो

बोला बेटी का पिता

बेटी के होने वाले ससुर से

अब क्या करूँ मैं आप ही बताओ

नये नोटों को लाने का फंडा बताओ

करीब ही देखा है पुराने नोटों का ढेर

कुछ थे पांच सौ कुछ हज़ार का ढेर

कल का पैसा आज कचरा हुआ है

काले धन का ये कैसा सौदा हुआ है

नॉट बन्दी जब से देश में आई है

सब की जेबें हुई ख़ाली है

आपके पास दस कहाँ से आये भाई

हमको तो पैसे निकालते वक़्त नानी याद आई ।

लगता है आपके पास काला धन गड़ा है

भाई मेरे पास तो एक लाख ही पड़ा है ।

मानते हो तो शादी कर लें

नहीं तो वापिस ले जाओ

बारात आपकी आप ले जाओ ।

सुनकर ये सब बोला दूल्हा

नहीं चाहिए मुझे ये घोडा

लड़ते रहो आप पैसो के लिये

मैं तो चला मन्दिर दुल्हन को लिए ।

कैसा वादा कैसा सौदा

बच्चों के आगे हर कोई झुका

बैंड भी था बारात भी आई

बस कैंसिल हुआ नोटों का सौदा ।

— कल्पना भट्ट

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu