वो पाषाण हृदय क्या जाने?

वो पाषाण हृदय क्या जाने?
हृदय है तो, पीड़ा भी होगी!

व्यथा होती है सागर सी गहरी,
पीड़ा होती है कितनी असह्य,
टूटते हैं तार कितने ही जीवन के,
आशाओं की, उम्मीदों की, भावनाओं की,
वो पाषाण हृदय क्या जाने?
हृदय है तो, पीड़ा भी होगी!

तोड़ते है जो हृदय किसी का,
आशाओं के फूल वो मसल देते हैं,
तोड़ जाते है तार मन के प्रांगण के,
देख मगर कहाँ पाता है कोई आँसू,
विह्वलता का, नीरवता का, अधीरता का,
वो पाषाण हृदय क्या जाने?
हृदय है तो, पीड़ा भी होगी!

गर रखते हो भावुक हृदय,
मत तोड़ना किसी हृदय की आशा,
समझो आँखों की विवश भाषा,
आशाओं में बसता इक जीवन,
भावुकता का, विवशता का, आकंक्षाओं का,
वो पाषाण हृदय क्या जाने?
हृदय है तो पीड़ा भी होगी!

Rating: 3.8/5. From 4 votes. Show votes.
Please wait...

This Post Has 3 Comments

  1. सुन्दर रचना ।

    Rating: 2.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...
  2. सुन्दर शब्द रचना

    No votes yet.
    Please wait...
  3. बहुत अच्छा

    No votes yet.
    Please wait...

Leave a Reply

Close Menu