एक जन आह्वान

आज देश तैयार खड़ा है
रचने को नूतन इतिहास

एक नया नेतृत्व दे रहा

जुड़ने का अन्तिम आह्वान

सब बाधाएँ तोड़ देश को

प्रथम पंक्ति में आना है

और मुखौटे पहने जो हैं

उन्हें सामने लाना है

जाने सब

वे कौन शत्रु हैं

जिनसे देश बचाना है

समर एक आख़िरी सामने

माँग रहा थोड़ा बलिदान

क्षणिक स्वार्थ को छोड़ जुड़े हम

और करें श्वेदों का दान

आओ मिल कर आज बढ़े हम

करें सफल अद्भुत अभियान

नहीं श्रेष्ठ है जाति धर्म अब

सबसे बड़ा देश अभिमान

-इंद्रा शर्मा

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu