दशरथ सुत चलत भवन, चितवत सब मात।
कमल नयन अनुजहि जस,प्रमुदित जलजात।।
दिनकर प्रकट करहि अब, मनहि मन विचार।
उदित रवि कुल प्रभु सकल, अब नमन हजार।।

( २ )

कमल नयन दशरथ सुत, वह रविकुल वंश।
हरसत प्रभु अनुजहि सब, जस दिनकर अंश।।
मुनि प्रकट करहि गुन अब, हुलसत सब मात।
करतब लख दशरथ सुत, उर सुख न समात।।

— राकेश यादव “राज”

Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *