गाँव

Home » गाँव

गाँव

By |2017-08-01T16:16:15+00:00July 19th, 2017|Categories: कविता|Tags: |0 Comments

मेरा हो गया बीमार
बाबू क्या करें
?
अब नहीं पीपल में
ठंडी ब्यार बाबू क्या करें
?
हल बिके तो बैल
भी कलवा कसाई ले गया
गाय बूढ़ी कट
गयी लाचार बाबू
क्या करें
?
मेंड से सौ पॉपुलर के पेङ
लगवाये थे कल
आज नालिश पर
पङौसी यार बाबू
क्या करें
?
शाम से
देशी का ठेका रोज
ही आबाद है
धर्मगृह पलने लगे व्यभिचार
बाबू क्या करें
?
कल तलक चौपाल पर
था पंच परमेश्वर खुदा
आज बस ऐयार की जयकार
बाबू क्या करें
?
दूध डेरी पर
गया सब्जी गयी शहरों को सब
गुङ मठा दुर्लभ हुआ अच्चार
बाबू क्या करें
?
रोज गन्नों
झाङियों नदियों में लाशें
मिल रही
लङकियाँ दहशत में “””””
खुश बदक़ार बाबू क्या करें
?
कौन लिखता है रपट खर्चे
बिना चौकी पे अब
फैसला रिश्वत
का थानेदार बाबू
क्या करें
?
गाँव के तालाब पर परधान
का गोदाम है
मच्छरों कुत्तों की है
भरमार बाबू क्या करें
?
पाठशाला में जुआ दिन
रात चलता है यहाँ
दोपहर का भोज खाते
स्यार बाबू क्या करें
?
कब से आँगनबाङियों का
माल मंडी जा रहा
बनते बीपीएल जमीनदार
बाबू क्या करें
?
सस्ते राशन की दुकानें एक
दिन ही खोलते
करते काला माल फिर
बाज़ार बाबू क्या करें
?
फौजदारी के मुकदमें भाई
बेटों से चले
गाँव का गुंडा ही ठेकेदार
बाबू क्या करें
?
अब जनानी जात पर
भी छेङखानी ज़ुल्म भी
रामलीला में
पतुरियाँ चार बाबू
क्या करें
?
कल तलक जो लग रहा था।
चित्र में इक मित्र
सा
आज जैसे देश का ग़द्दार बाबू करें
?
इमरती का मर्द कलकत्ते से लाया एड्स है
शामली की कोख बेटी मार
बाबू क्या करें
?
गाँव में आकर
सुधा देखो तो कितना है
सितम
औरतों पर रोज अत्याचार
बाबू क्या करें
-सुधा राजे 

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment